Sunday, November 6, 2011

Shri Gopal Ratnam, RSS and Social Service in Tamilnadu

धुन के पक्के, समर्पित गीता प्रचारक श्री गोपाल रत्नम…

तमिलनाडु के कोयम्बतूर नगर के आसपास के गाँवों में एक दाढ़ीधारी व्यक्ति को भगवद गीता पर प्रवचन देते अमूमन देखा जा सकता है। ये सज्जन हैं, 14 वर्षों तक RSS के पूर्व प्रचारक रहे श्री गोपालरत्नम, एम टेक की पढ़ाई पूरी कर चुके गोपाल जी ने अपना समूचा जीवन भारत के उत्थान, हिन्दू संस्कृति के प्रचार एवं गीता ज्ञान के प्रसार में लगा दिया है।


श्री गोपालरत्नम अधिकतर अपनी मारुती अल्टो कार में ही निवास करते हैं। वे सुबह से लेकर रात तक कोयम्बटूर के आसपास के गाँवों में इसी कार से घूमते हैं। प्रत्येक गाँव में श्री रत्नम तीन दिन निवास करते हैं तथा भगवदगीता पर प्रवचन देते हैं। अपने प्रवास के पहले दिन वे "गीता और व्यक्ति", अगले दिन "गीता और परिवार" तथा तीसरे दिन "गीता और समाज" विषयों पर अपने विचार ग्रामीणों तक पहुँचाते हैं। ऐसा वे बिना किसी प्रचार अथवा भीड़भाड़ एकत्रित किए करते हैं।

अपने प्रोजेक्ट का नाम उन्होंने "In Search Of ChandraGupta" (चन्द्रगुप्त की खोज में) रखा है। अभी तक के अपने अभियान के दौरान उन्होंने 18 समर्पित नवयुवकों को अपने साथ जुड़ने के लिए, उनका चुनाव किया है। ये सभी नवयुवक हिन्दुत्व, भगवदगीता एवं भारतीय संस्कृति के प्रति पूर्ण समर्पित हैं। ये सभी युवा शराब-जुआ एवं दहेज जैसे समस्त प्रकार के व्यसनों और कुरीतियों से मुक्त हैं। श्री गोपालरत्नम ने इन सभी युवकों को अपने तरीके से समाजसेवा का प्रशिक्षण दिया है, आसपास के गाँवों में ये युवक जाति-धर्म से ऊपर उठकर गरीबों के कल्याण के लिए निःस्वार्थ भाव से उनके शासकीय कार्य (जैसे राशन कार्ड बनवाना, गैस कनेक्शन के कागज़ात, वोटर आईडी, वृद्धावस्था पेंशन, वरिष्ठ नागरिक प्रमाण पत्र एवं सहायता इत्यादि) मुफ़्त में करते हैं।

हाल ही में सम्पन्न हुए कोयम्बटूर नगरीय निकाय के चुनाव में इन 18 युवकों को उन्होंने चुनाव में भी उतारा, इन्होंने मतदाताओं को अपने कार्यक्रम तथा समाजसेवा के बारे में घर-घर जाकर बताया तथा चुनाव जीतने पर वे क्या-क्या करना चाहते हैं यह भी विस्तार से बताया। कम से कम पैसा खर्च करके किये गये इस चुनाव अभियान के उम्दा नतीजे भी मिले, तथा इन 18 युवकों में से एक श्री सतीश ने मेट्टुपालयम नगर पालिका में द्रमुक-कांग्रेस-अन्नाद्रमुक के करोड़पति प्रत्याशियों को हराकर पालिका अध्यक्ष का चुनाव जीता, जबकि तीन अन्य युवक भिन्न-भिन्न स्थानों पर पार्षद (Corporator) भी बने…। 

स्वभाव से शांतिप्रिय, कम बोलने वाले एवं मीडिया से दूर रहने वाले श्री गोपालरत्नम कहते हैं कि शांति से एवं योजनाबद्ध तरीके से की गई सच्ची जनसेवा को आम आदमी निश्चित रूप से पसन्द करता है। इस कार्य की प्रेरणा को वे संघ की कार्यपद्धति का नतीजा बताते हैं और उन्हें विश्व की सबसे प्राचीन हिन्दू संस्कृति पर गर्व है।

श्री गोपाल रत्नम जैसे निस्वार्थ सेवाभावी एवं हिन्दू धर्म प्रचारक को सादर नमन… ऐसे हजारों प्रचारक संघ से प्रेरणा लेकर बिना किसी प्रचार के समाजसेवा कार्य में लगे हुए हैं। ऐसे लोग ही सच्चे अर्थों में महान कहलाने लायक हैं और यही हिन्दुत्व की असली शक्ति भी हैं…

20 comments:

sarita gujar said...

सचमुच यदि समाज में परिवर्तन लाना है तो स्वयं से ही प्रारंभ करना चाहिये....संघ के माध्यम से ये संस्कार प्राप्त कर कितने युवा नींव की ईंट बनने को तत्पर है....

अर्जुन शर्मा said...

साधू !! अद्भुत , ऐसे ही कितने लोग है आज भी | इनके बारे में जान कर लगता है ईश्वर कुछ सन्देश दे रहे है उसे अधिकतर व्यक्ति समझ लेता है किंतु वे बिरले ही होते है जो अपने पुरुषार्थ से उसे पूर्ण करने का लक्ष्य साधते है |

Anonymous said...

Sukhad Aaschary! yahi hain hindutva ke rakshak... naman...

vikas mehta said...

श्री गोपालरत्नम or suresh ji dono ko mera parnam kyo ki dono hi hindu dharm me vishavas rakhne vale sacche deshbhakt hai

दीपक बाबा said...

श्री गोपालरत्नम का परिचय करवाने के लिए साधुवाद....

धरा तभी टिकी है...
माने आग बुझ चुकी है पर
कुछ न कुछ चिंगारी अभी भी सुलग रही है..

उम्मीद रखनी चाहिए... भारतवंशियों को.

सुलभ said...

.


ये हिन्दू संस्कार ही है जो हमें चरित्रवान, राष्ट्र-भक्त, राज्य व्यवस्था के प्रति जिम्मेदार और धार्मिक दृष्टिकोण से समाज सेवक बनाता है. सच्चा हिन्दू इसी में आनंद की अनुभूति करता है. इस प्रेरक आलेख के लिए बहुत धन्यवाद आपका.

दिवाकर मणि said...

कोटिशः नमन ऐसे सच्चे महापुरूष को एवं इस वार्ता को हमसे साझा करने के लिए भूरिशः हार्दिक धन्यवाद आपको!!

Tarun Goel said...

jabardast

Ratan Singh Shekhawat said...

ऐसे निस्वार्थ सेवाभावी को कोटि-कोटि नमन

Krishan Pahal said...

Excellent

चन्द्र प्रकाश दुबे said...

गोपाल रत्नम जी को कोटिशः नमन. साथ ही आप को ऐसी जानकारी मुहैया कराने हेतु साधुवाद.

संजय बेंगाणी said...

ये भारत के सेवक है. इस रास्ते हो रहा भारत निर्माण..

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

ऐसी महान हस्ती का परिचय देने के लिए आपका आभार...ऐसी निधि केवल संघ ही पैदा कर सकता है|
किन्तु एक डर भी है...केरल वह भूमि है जहां हिंदुत्व के रक्षकों को सदैव इसाई मिशनरियों अथवा मुल्ले मदरसों से खतरा रहता है| कहीं किसी स्वामी को मरवा दिया जाता है तो किसी को फर्जी अश्लील एम्एम्एस के ज़रिये बदनाम किया जाता है| इश्वर करे, श्री गोपाल रत्नम अपने उद्देश्य की पूर्ती में बिना रोक टोक सफल हों|

lokendra singh rajput said...

ऐसे लोगों के चलते ही अभी तक दुनिया भर में अच्छाई और सच्चाई के प्रति लोगों में विश्वाश बना हुआ है... ईमानदार और समाजसेवी लोगों का राजनीती में आना बहुत जरुरु है...

Anonymous said...

Suresh ji ram-ram
gopalrantnam jaise anmol ratan khojne kar samne lane k liy appko thatha gopalratnam ji ko koti-2 prnam/ Parmatma aap dono ko(gopal ratnam g) aapne laksey me safalta pardan kare/ in shubhkamnao k saat

Vijender

Anonymous said...

Till such persons are doing there duty towards the society Hindu religion ca not die. Hats off to real leaders of change.

dschauhan said...

प्रेरणादाई....

निर्झर'नीर said...

सादर नमन…

Ganesh Prasad said...

bahut bahut badhai ke patra hai ye sache sewak,

ram kumar singla said...

Aapne ek ache yodha ka parichay karaya. aap badhai k pater ho.