Tuesday, October 4, 2011

Dr. Subramaniam Swami on 2G Scam, Arundhati Roy, Geelani and Robert Vadhera

डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी का दोष, अरुंधती और गिलानियों से भी बड़ा है… (एक माइक्रो-पोस्ट) 

जब तक डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी 2G घोटाले की परत-दर-परत उधेड़ते हुए द्रमुक के मंत्रियों को रगड़ते रहे, उन्हें जेल पहुँचाते रहे, तब तक कोई समस्या नहीं थी। जैसे ही RTI के जरिये डॉ स्वामी ने चिदम्बरम पर फ़ंदा कसना शुरु किया, कांग्रेस में बेचैनी बढ़ गई, दिग्विजय सिंह ने तत्काल डॉ स्वामी को ब्लैकमेलर का खिताब दे डाला। डॉ स्वामी पर जो ताज़ातरीन FIR "मढ़ी" गई है उसके पीछे असली कारण यह है कि उन्होंने "पवित्र परिवार" के "दामाद" को भी 2G घोटाले में लिप्त होने और सबूत पेश करने का दावा कर दिया… इसीलिए जुलाई में लिखे गये एक लेख के विरोध में FIR अब अक्टूबर में लिखी जा रही है। इस लेख को लेकर पहले तिलक नगर और दूसरी बार निजामुद्दीन थाने में FIR रजिस्टर करना खारिज किया जा चुका है… परन्तु अब चिदम्बरम के दबाव में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने केस दायर कर लिया है… । यानी जो लेख जुलाई-अगस्त में "भड़काऊ" नहीं था, अचानक अक्टूबर में हो गया?


बात साफ़ है कि डॉ स्वामी को अगली बार कोर्ट जाने से रोकने की भौण्डी कोशिशें हो रही हैं, क्योंकि सच्चा कांग्रेसी वही होता है, जो बड़ी से बड़ी और भद्दी गाली सहन कर सकता है, लेकिन "पवित्र परिवार"(?) के खिलाफ़ एक शब्द भी नहीं सुन सकता… जबकि डॉ स्वामी ने तो सीधे-सीधे उनके "कँवर साब" पर ही वार कर दिया है… ।

ज़ाहिर है कि "अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता" सिर्फ़ अरूंधती रॉय, बिनायक सेन, गिलानियों, यासीन मलिक, तीस्ता जावेद इत्यादियों के लिए आरक्षित रखी गई है… डॉ स्वामी के लिए नहीं है। अरे हाँ… दिग्गी राजा भी बाबा रामदेव के खिलाफ़ "गले में पत्थर बाँधकर डुबोने" की भाषा बोल सकते हैं, उन्हें भी सब कुछ माफ़ है। ज़ाहिर है कि हमारे देश में किसी को भी "ठग", "लुटेरा", "ब्लैकमेलर" कहा जा सकता है, दिल्ली में सरकार की नाक के नीचे सरेआम कश्मीर की आज़ादी की माँग की जा सकती है, नक्सलियों से सहानुभूति दर्शाई जा सकती है, माओवादियों और कश्मीरी पत्थर फ़ेकुओं को "भटके हुए नौजवान" चित्रित जा सकता है, सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को खुल्लमखुल्ला लतियाते हुए अफ़ज़ल गूरू को बेगुनाह बनाने के लिए प्रचार किया जा सकता है… सब कुछ किया जा सकता है।

लेकिन… लेकिन… लेकिन…  डॉ स्वामी का दोष इन सभी से ज्यादा बड़ा है, क्योंकि उन्होंने देश के सबसे बड़े "त्यागी", सबसे बड़े "बलिदानी", सबसे अधिक "ईमानदार", सबसे ज्यादा "उजले", पवित्र परिवार के दामाद का नाम ले लिया है, और उनकी वजह से आज कांग्रेस के कई मंत्री तिहाड़ की दहलीज पर भी खड़े हैं…, सो उन पर FIR दर्ज होनी ही है। ठीक वैसे ही, जैसे "कालेधन" का नाम लेते ही बाबा रामदेव को खदेड़ा गया और राजबाला को लाठियों से पीटकर मार डाला गया…

चलते-चलते एक तस्वीर और देखते जाईये…


=================

नोट :- कांग्रेस और भाजपा में यहाँ एक प्रमुख अन्तर स्पष्ट दिखाई देता है - पवित्र परिवार(?) के खिलाफ़ एक शब्द भी बोलने पर कांग्रेसी नेता उसी तरह बिलबिलाते-फ़ुफ़कारते हैं, मानो किसी साँप की पूँछ पर पैर रख दिया हो। दूसरी ओर यदि कोई कांग्रेसी या वामपंथी, हिन्दुत्व एवं हिन्दू धर्म के खिलाफ़ कुछ भी बोलें, RSS को कितना भी गरियाएं… उसका मुँहतोड़ जवाब देना तो दूर, भाजपा नेताओं की रगों में उबाल तक नहीं आता… विश्वास नहीं आता हो तो विभिन्न चैनलों पर चलने वाली बहस देख लीजिये, या दिग्गी राजा के संघ सम्बन्धी बयानों के जवाब में, अखबारों में भाजपाईयों के बयान पढ़ लीजिए।

21 comments:

Ajit MANDAN said...

आपने बहुत अच्छा लिखा है, किन्तु हमें यह तो समझाना हे पड़ेगा की आखिर हिंदू स्वयं हिंदू की बुराई क्यों सुन लेता है? क्यों जरुरत पड़ने पर हिंदू हमेशा बटं जाता है? क्यों हिंदू का खून अपने भाईओं के लिया गाली सुन कर खोलता नहीं है.

जितेन्द्र सिंह : राष्ट्रवादी भारतीय... said...

सुरेश भाई... अब आप भी राष्ट्रवादी हैं.. मोदी जी और सुब्रह्मण्यम स्वामी जी की राह पर.. अभिव्यक्ति आप की भी कुचली जा सकती है.. सेकुलर भेड़ियों के राज में 'हिन्दुओं की गौ माता' को बख्शा नहीं जा सकता..
वन्दे मातरम्...
जय हिंद.. जय भारत...

ankush said...

congress bahut planed way mein media mange karke Anna ko BJP samarthak dikha rahi hein aur anna ki team deshdrohi batein kar rahein hein bad mein anna ki team BJP ke liya gali ki haadi ban jayegi....

Anonymous said...

One day manhohanSingh will write a autobiography.
Three mistakes of my life,
2G,3G, Sonia G

Anonymous said...

पता नहीं कब आयेगा हिन्दुओं के अन्दर आत्म सम्मान का भाव. कब आयेगी स्वतन्त्र होने की भावना. कब होगा अपने ऊपर गर्व, किस दिन अपने धर्म, संस्कृति को गरियाने वालों को उचित उत्तर देना सीखेंगे.

Vivek Rastogi said...

राजा और रंक का अंतर बताता है, गांधी और ऊधम सिंह के परिवार ।

Abhishek said...

आप सही कह रहे है सुरेश जी इंडिया में सेकुलारता केवल हिन्दुओ को गाली देने के लिए है. इसी सेकुलारता का भौंडा प्रदर्शन करते हुए गाँधी, नेहरू ने देश के टुकड़े करवा दिए और जिन्ना को सेकुलारता का पाठ नहीं पढ़ा पाए. हाँ हिंदुस्तान की जनता को जरुर सेकुलारता का पाठ आज तक ये कांग्रेसी और कुछ बुद्धजीवी पढ़ा रहे है. इस सेकुलर देश भारत में जहाँ कशमीर के मुस्लिमो ने कशमीर से हिन्दुओ का सफाया कर दिया. उन कशमीरी मुस्लिमो को भी कोई सेकुलारता की ABC नहीं पढ़ा पाया. जब राहुल बयान देता है की देश के लिए सबसे बड़ा खतरा हिन्दू आतंकवाद है तब राहुल सेकुलर है, हर ब्लास्ट के पीछे चितम्बरम और दिग्गी को भगवा आतकवाद नजर आता है, इन सबके बयान सबको सेकुलर लगते है किन्तु किसी मुस्लिम के लिए कुछ कहा जाए तो वो साम्प्रदायिक हो जाता है. ये कैसी सेकुलारता है जहा हिन्दू के खिलाफ कहा गया सब कुछ सेकुलारता के अन्दर आता है किन्तु मुस्लिम के लिए कही हर बात साम्प्रदायीक होती है. भारत में तो सेकुलारता का एक ही मतलब है हिन्दुओ को गाली दो और मुस्लिमो के तलवे चाटो. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने ये नहीं किया तो उनके हर बयान में इन कांग्रेसी दलालों को साम्प्रदायिकता तो दिखेगी ही.

Rajesh said...

Ye Hindu Kabhi Nahi Sudhrenge Suresh Ji. bahut hi markik hai lekh.

Bhawna said...

But what to do with secular public who read only secular papers, blogs & watch only secular news channel. Even who don't listen single word of logic. Once I forwarded your one Hindi article to my colleague first of all she laughed because of hindi then start to laugh more & says these people are communal don't like peace.

These secular public don't care logic, proof looks like they are made to listen against hindu only naturally.

abhishek said...

dr.subramaniam swamy ko bjp mein aane nahi diya gaya. kyun? woh to purane jansanghi hain. vajpayee, yashwant sinha ki wajah se. in logon ko dar tha ki yeh humse jyada kabil hai aur saccha hindu. jo kehta hi nahi hai karta bhi hai. dr.swamy ne aajtak apna bayan nahi badla aur koi bhi mudde ko chunav ya apni chavi dekh kar nahi liya. bjp mein aaj koi bhi aisa neta nahi hai jo pavitra parivar ke bare mein khul kar media mein bolta ho. action lene ki baat toh chhod dijiye.

mein shri subramanian swamy ko dhanyavad dena chahta hun jo unhone itna bada khatra uthakar bhi 2G ka case lada aur robert vadera ka naam liya.

Raj said...

anna hajare & his fashionable NGOs kaha hy,kaha gai unki secularism,modi ko bolne sbhi aaajathy hy ab kha hy anna,kya yahi secular hy,mulla ko manane jao chahy vo anti indian stetment kahhy vandematram mat bolo,chahy mr bhusan kashmir ko pak ko gift dena chahiye,manipur ke setuation jane bina uther ke kanun ko hata dena,kya anna home minister hy unko pata hona chahiye manipur ke halat,anna & team ye samajti hy ki janta unke sath to unko sahi kaam karna chahiye naki ulti sidhi baty

Anonymous said...

सुरेश जी लगता है की स्वामी जी और आप की तरह राष्ट्रवादी हिन्दुओं पर लगाम कसने के लिए ही सोनिया ब्रिगेड साम्प्रदायिक एंवम लक्षित हिंसा बिल ला रही है

Mahendra Gupta said...

Vandemataram Sir!
Hamesha ki taraha lajawab Lekh.
Hindu sayad isliye chup hai kyoki we kalki awatar ka intjar kar rahe hai.
Hai re hindu!
Bhagwan tumahara bhala kare. Lekin karega nahi. Kyoki usne use do haath bh diye hai jiska istemaal wo keval hath jorne ke liye karta hai. Jaisa ki Anup Jalota ji ne gaya hai.
Bahut dukh hota hai.
Are hinduwo kuchh to itihas se sikho.

sanjeev.teotia said...

suresh ji. acha likha h,kya me facebook per post kar skta hun

sanjeev.teotia said...

suresh ji. me aap ka blog 3 year se regular dekhta hun .per mujhe comment krna nhi aata tha aaj phli baar comment hua h.please publish krna.suresh ji aap bhut acha likhte ho. jay hind

sanjeev.teotia said...

मित्रों जिस देश की आधे से ज्यादा आबादी दो वक्त का खाना भी मुश्किल से जुटा पा रही हो, उस देश में कसाब जैसे आतंकवादि पर प्रति दिन 8,50,000 रु खर्च करना. क्या यह देश से गदारी नहीं है.??????????????????????????? IF YES share it

Krishan Pahal said...

Excellent!

Man said...

वन्देमातरम सर ,
काफी सेकुलर मंगते सुब्रमन्यम स्वामी जी को खेलो और बिगाड़ो वाली मानसिकता वाला बच्चा मान रहे हे ,लेकिन वो भूल गये की स्वामी जेसी शख्सियत वर्षो से पैदा होती हे |अब जब "कांग्रेसी कंवर साहब"" का नम्बर आ गया हे तो इन रूदाली गायक भांडो ,मंगतो को खंखार के साथ दस्त होने लगी हे जो इन की पुरानी खानदानी जेनिटिक बीमारी हे @लेकिन स्वामी इन डराऊ द्न्त्खोरो से डरते तो ये सारे अभी तक आजाद घूम रहे होते |

sant2099 said...

जब तक मध्यम वर्ग वोटिग डे को हालीडे समझना बन्द नही करेगा तब तक एक "अच्छी सरकार "नही आ सकती पूर्ण बहुमत से तो कभी नही

Anonymous said...

suresh ji ram-ram
sandar lekh k liy hardik dhanybad
Dr. swami g ne sarkar ki naak me daam kar rakha he isliye unko sabak sikhane ke liye lagbahg 3 mahine baad F.I.R. darg kari he aur F.I.R. li copy bhi De swami ko nahi di gai is visay me unone Dili k police commissionar ko patar likh kar F.I.R. ki copy mangi he aur na dene per court jane ki baat kahi he


Vijender

ankur raisoni said...

jai hind