Friday, August 5, 2011

विकीलीक्स द्वारा स्विस बैंकों में भारतीय खातेदारों की पहली सूची जारी… Wikileaks Black Money of India in Swiss Banks

मित्रों…
विकीलीक्स द्वारा आधिकारिक ट्वीट में यह कहा गया है कि इस प्रकार की कोई सूची उसके द्वारा जारी नहीं की गई है (जैसा कि भाई नीरज ने अपनी टिप्पणी में बताया)। अतः इस पोस्ट को हटाने की बजाय मैं सबसे ऊपर स्पष्टीकरण देना अपना फ़र्ज समझता हूँ… चूंकि यह पोस्ट अपुष्ट सूचनाओं पर आधारित थी (पोस्ट करते समय), एवं रात होते-होते विकीलीक्स का खण्डन भी आ गया अतः इस पोस्ट को Null & Void समझा जाए…

मैं न तो इस पोस्ट को, न ही सभी टिप्पणियों को हटा रहा हूँ, क्योंकि अब इसकी कोई जरुरत नहीं रह गई है…। पाठकों एवं टिप्पणीकर्ताओं को हुई असुविधा के लिए मैं खेद व्यक्त करता हूँ… अपुष्ट और गलत सूचना के आधार पर हुई यह मेरी पहली गलती है, आशा है कि मित्रगण इसे समझने का प्रयास करेंगे (कई बार मुखबिर की गलत सूचना के आधार पर पुलिस एनकाउण्टर कर डालती है, वैसा ही कुछ हुआ)।

चूंकि मैं बड़े मीडिया हाउसों की तरह "अड़ियल", "जिद्दी" और "वकीलों की फ़ौज से सक्षम" नहीं हूं कि गुजरात दंगों में गर्भवती मुस्लिम युवती का पेट फ़ाड़ने जैसी झूठी व ऊलजलूल खबरों को भी जबरन दिखाता रहे, तीस्ता जावेद के झूठे हलफ़नामों को भी सुर्खियाँ बनाता रहे और सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बावजूद अपनी गलती न माने और खेद भी व्यक्त न करे…। मैं खेद व्यक्त करता हूं। नीरज भाई की टिप्पणी रात्रि 9.19 पर की गई जिसे मैंने रात्रि 9.50 पर देखा, परन्तु बाद में लाइट जाने तथा घर पर इंटरनेट की सुविधा न होने की वजह से इस पोस्ट का खण्डन मैं तत्काल प्रकाशित न कर सका…

फ़िर भी मूल सवाल अपनी जगह पर कायम है कि सुप्रीम कोर्ट की लताड़ के बावजूद केन्द्र सरकार उन नामों का खु्लासा क्यों नहीं कर रही है जो उसे जर्मनी सरकार काफ़ी पहले बता चुकी है… अब हमें विकीलीक्स के "आधिकारिक" खुलासे का इंतज़ार करना होगा…
(बहरहाल, आप चाहें तो मूल पोस्ट पढ़िए… जिसमें मैंने पहले मिनट से ही इसकी विश्वसनीयता को संदिग्ध माना है)
==================

केन्द्र सरकार इस बात को स्वीकार कर चुकी है कि उसे स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के धन के बारे में जानकारी प्राप्त हुई है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगातार लताड़ लगाए जाने के बावजूद सरकार उन खाताधारियों के नाम उजागर नहीं कर रही है, क्योंकि स्वाभाविक है कि उनमें कई “प्रभावशाली”(?) लोग मौजूद हैं, जिनके नाम उजागर होने (उजागर तो हो चुके हैं, लेकिन आधिकारिक रूप से सरकार द्वारा मान लेने) पर दिल्ली में राजनैतिक भूकम्प आ सकता है…(हालांकि यह सूची अभी आधिकारिक एवं विश्वसनीय नहीं मानी जा सकती)

विभिन्न विदेशी बैंकों में भारतीयों द्वारा जमा काले धन के बारे में विकीलीक्स द्वारा खुलासे निरन्तर जारी हैं। ताजा खुलासे में विकीलीक्स ने कहा है कि उसके पास स्विस बैंक के पूर्व कर्मचारी रूडोल्फ़ एल्मर द्वारा प्राप्त जानकारी एवं डिस्क के मुताबिक भारतीयों के 2000 नाम हैं, जिसमें से कुछ की लिस्ट विकीलीक्स ने अपने सर्वर 88.80.16.63 पोर्ट क्रमांक 9999 (SSL Enabled) पर रेपिडशेयर के जरिये जारी की हैं। विकीलीक्स के अनुसार इन विशाल रकमों में से अधिकतर स्टॉक मार्केट की हेराफ़ेरियों, नशे के अवैध कारोबार, विभिन्न सरकारी योजनाओं द्वारा प्राप्त किये गये हैं। जूलियन असांजे के अनुसार भारत से आने वाला अधिकतर अवैध पैसा पाकिस्तान, दुबई, मॉरीशस और दक्षिण अफ़्रीका होते हुए स्विस बैंकों में पहुँच रहा है, यदि भारत सरकार इसे रोकने के लिये तथा नाम उजागर करने हेतु तत्काल कोई कदम नहीं उठाती है तो हम एक और लिस्ट जारी करेंगे… (नीचे दी गई सूची 2 अगस्त 2011 को जारी की गई है), जबकि 985 अन्य नामों की लिस्ट जल्दी ही जारी की जाएगी…

===========
डिस्क्लेमर :- उक्त लिस्ट एवं स्नैपशॉट विभिन्न नेट फ़ोरमों एवं साइटों पर विचरण कर रहे हैं।
=========

स्रोत लिंक –
http://www.rediff.com/business/slide-show/slide-show-1-black-money-wikileaks-may-reveal-indian-names/20110426.htm

http://newsalertindia.com/news_details.php?nid=983

http://i.imgur.com/bO3dF.png

http://www.haindavakeralam.com/HKPage.aspx?PageID=14443&SKIN=B

44 comments:

Kuldeep Tyagi said...

हमारे यंहा एक कहावत है की सावन के अंधे को सब हरा ही दिखाई देता है! मेकाले की थोपी हुई शिक्षा का ही ये असर है की हमे अभी भी वही सब सच लगता है जिसे ये सेकुलर चोर हमे दिखाते है! सच मे तो हम खुद ही सचाई से मुह मोड़ रहे है! सच जानते हुए भी हम ही इस भ्रस्ट सरकार को ६५ वर्षो से चुनते हुए और झेलते आ रहे है!
देश का भविष्य हमारे हाथो पर निर्भर करता है न की इन भ्रस्ट नेताओ पर!

वक़्त है अपनी सोच बदलने का और इस भ्रस्ट सरकार को हटाने का!


कांग्रेस हटाओ देश बचाओ!

(आपका मेरे ब्लॉग mereapnevichar.blogspot .com पर स्वागत है)

ajit gupta said...

इसीलिए तो इतनी हायतौबा मची है। सारी यात्राएं गुप्‍त रखी जा रही हैं यहाँ तक की स्‍वास्‍थ्‍य सम्‍बंधी यात्राएं भी। क्‍या पता कब कहाँ से भागना पड़ जाए?

Neeraj नीरज نیرج said...

फिलहाल सर्वर पोर्ट वगैरह इस रिपोर्ट को सत्य साबित नहीं कर रहे हैं। विकिलीक्स की ओर से भी कोई सूचना नहीं है। आधिकारिक साइट भी मौन है। ये खुलासा संदिग्ध है। अलबत्ता मैं यह कयास ही लगा सकता हूं कि इन नेताओं के नाम होंगे किंतु अभी इसे विकिलीक्स की प्रामाणिकता भी नहीं मिली है। इसलिए इसे संदिग्ध मान रहा हूं। आप भी ढूंढे। यदि यह आधिकारिक हुआ तो मीडिया छापे ना छापे। कई विपक्षी और नेट साइट्स-न्यूज़ पोर्टल छापेंगे।

Suresh Chiplunkar said...

सही कहा नीरज भाई… इन नेताओं के नाम के साथ-साथ जिन ट्रस्टों और गैर-राजनीतिक व्यक्तियों के नाम दिये हैं… उनके बारे में और तहकीकात करनी पड़ेगी…। नेताओं के नाम होना कोई आश्चर्य की बात नहीं है, लेकिन अन्य लोगों/ट्रस्टों के बारे में खुदाई करनी पड़ेगी…

हालांकि इस लिस्ट की विश्वसनीयता सिद्ध होना बाकी है, परन्तु जिस तरह सुरक्षा की खातिर विकीलीक्स वाले रातोंरात लगातार अपने सर्वर और आईपी बदलते रहते हैं उसमें कुछ भी हो सकता है… ज़ाहिर है कि जब तक कोई बड़ा मीडिया हाउस इसे नहीं उठाएगा, तब तक इसे संदिग्ध ही माना जाए… :)

rahul said...

सुरेश भईया.....क्या किया जाए इन चोरों का...देश को बर्बाद कर दिया इन सबने.....मै क्या कर सकता हू बताइए...?....कुछ सलाह दीजिए....यथासंभव प्रयास करूँगा.....

Man said...

ये विकिलिस का सर्वे सर्वा असान्जे./...इन्सान और शेतान हे ,इसकी आँखे ही कह रही हे ,लेकिन ये शेतानी शक्तियों का तोड़ हे ,हमें इसका स्वागत करना चाहिए .

दिवाकर मणि said...

अगर वाकई यह विकीलीक्स की आधिकारिक रिपोर्ट है, और सत्यता से युक्त है तो फिर इन हरामियों को (जिनके नाम भी इस सूची में शामिल हैं) सरेआम फांसी पर चढ़ा देना चाहिए...

Raj said...

can link oficel provide ,wikileaks

Suresh Chiplunkar said...

नीरज भाई एवं दिवाकर जी…
मीडिया द्वारा इस लिस्ट की विश्वसनीयता के बारे में इसलिये कहा, क्योंकि जिस प्रकार दंगे तभी माने जाएंगे जब वे गुजरात में हों, उसी प्रकार स्विस बैंक की सूची तभी मानी जाएगी जब भाजपा के किसी नेता का नाम हो…

जरा सोचिये कि इसमें 4-6 बड़े भाजपा नेताओं का नाम होता तो क्या मीडिया को अब तक मिर्गी का दौरा न पड़ गया होता? :) :)

Man said...

वन्दे मातरम सर ,बहुत बढ़िया रिपोर्ट .,
सर आप को बहुत बहुत धन्यवाद ,रिपोर्ट देखि ,लेकिन अब जुलिओन असान्जे ही भारतीय मीडिया और राजनीती में गलत साबित होंगे क्योकि बापडे सच्चे ??? ये ही हे @@जबकि अब तक इनकी हवा खिसक गयी हे |माँ भारती की कृपा और माँ जगदम्बे भवानी का आशीर्वाद आप पर बना रहे |

अनोप मंडल said...

सुरेश जी जब तक अच्छाई और बुराई के बीच चल रही शाश्वत लड़ाई में हम इनके असल चेहरों को नहीं पहचान पाएंगे भ्रमित होते रहेंगे। कांग्रेस की चोंच मनु संघवी को देखिये; पारेख, शाह और मेहताओं की जमात इकट्ठा होकर क्या कर रही है आप जैसा छिद्रान्वेषी व्यक्ति ये सब क्यों नहीं देख पाता कि प्रत्येक मीडिया किनके हाथों में है चाहे वह प्रिंट हो या इलैक्ट्रॉनिक...
जितना धन भारत में इस समय भी है उसे सोने में बदल कर कौन बाहर भेजने की जुगाड़ में लगा रहता है कौन सोना लेकर काग़ज़ दे रहा है? रिज़र्व बैंक से जाकर कभी एक हज़ार रुपए की कीमत का सिक्का खरीद कर देखिये। क्यों भारतीय मुद्रा पर लिखा रहता है कि मैं धारक को पचास या सौ रुपए देने का वचन देता हूँ क्योंकि वह काग़ज़ असल में रुपया नहीं है वह मात्र वचन पत्र है रुपया तो कुछ अलग ही है क्या सोचा है इस बारे में? जैसे किसी काग़ज़ पर लिखा हो कि मैं धारक को पाँच किलो जलेबी देने का वचन देता हूँ तो आप उस काग़ज़ को तो जलेबी नहीं मान लेते लेकिन मोहनदास करमचंद गांधी के चित्र वाले विशेष काग़ज़ को रुपया मान लेते हैं।
भाई अर्थव्यवस्था समाज की रीढ़ है जिस पर किन्हीं खास लोगों ने कब्जा कर लिया है वही सरकार और असरकार हैं। सोनिया से लेकर बाकी सबको वही तो बंदरनाच नचाते है लेकिन सामने नहीं दिखते। फाँसी पर चढ़ाएगा कौन न्यायपालिका में भी उनका कब्जा है। सोच कर उत्तर दीजियेगा।

संजय बेंगाणी said...

सूची पर विश्वास करने के लिए योग्य कारण होना चाहिए. आरएसएस वालों में कोई का नाम आ जाए तो थोड़ा विश्वास हो और फिर मीडिया भी "शायद" शब्द के साथ 24 घंटे चलाएगा...

सुलभ said...

लिस्ट का आधिकारिक रूप से छपना या नहीं छपना ये बात समझना थोडा आसान है बनिस्बत इस बात के कि हम भारतीय पीछले साठ सालों में कितना ठगे गए हैं.

rahul said...

सुरेश भईया...आपने मेरी टिप्पणी पर ध्यान नहीं दिया.....कुछ सलाह दीजिए.....

Desh Premi said...

सही सही लिखा ह सुरेश जी आपने !! इसमें कोई शक नहीं की 90% काला धन इन खंग्रेसी नेताओं का ह इसमें ,
लेकिन इस देश की "जनता जब अपनी बेटी का ब्याह रचाने जाती है तो लड़के वालों के सात-सात पीढ़ी तक खोद खोद कर जानकारी लेती है लेकिन जब देश की बात आती तो सब कुछ भूल कर ऐसी औरत को वोते देते है जिसके नाम से ज्यादा कुछ नहीं जानते है शर्म आती है ऐसे लोगो पर
जबकि ,में तो ये कहूँगा की 99% खंग्रेसी नेताओ को तक ये नहीं पता ह की ये महारानी कहा पड़ी ? कहा बड़ी हुई? कहाँ पढाई की ? इसके मां-बाप क्या करते थे ? इसके संस्कार कैसे है ? क्या ये बातें देश के लिए लागु नहीं होती है ? क्या हमें इस पर भरोसा करना चाहिए ?" लेकिन हम 1500 साल से गुलाम रहने के बाद भी वही सहिष्णु बन रहे है
शर्म आती है इस देश के लोगो की सोच पर !!
जय हिंद ! जय हिंदुस्तान !

vijay jha said...

बंधू , आप सभी से आग्रह, इस लेख को अधिक से अधिक लोगों को प्रेषित करें , फेसबुक, ट्विटर, ऑरकुट, ब्लॉग जैसे माध्यम के द्वारा ये काम आसानी से कर सकते है ! एक जोर का प्रहार इन भ्रष्टाचारी पर करें,जिससे इनकी दिवार दरक जाए, भ्रष्टाचार के बलबूते खरा महल ढह जाए ! जय भारत !

Anonymous said...

Inko to jinda jala do Desh k dushman sifr apna dekhtey hai kisi sey koi matlab nahi hai desh ka former priminister bhi samil hai ismaie to baki sey kya ummed ki ja sakti hai

sarm aati hai mughey is gandhi family sey

Bhavin said...

sureshji unka aage ka list bhi nikal k prakashit karne ki kripa kare

AlbelaKhatri.com said...

चोरों की बारात.......

प्रतिभा सक्सेना said...

सुरेश जी ,
बहुत-बहुत आभार .
आप हिला-हिला कर जगाने की कोशिश करते हैं पर जानबूझ कर आँखें बंद रखनेवाले बिना धकियाये चेतेंगे नहीं !

आनंद said...

आज तो कपिल सिब्बल,दिग्विजय सिंह एंड कंपनी से ज्‍यादा असांजे पर विश्‍वास करने का जी करता है...

- आनंद

काशिफ़ आरिफ़/Kashif Arif said...

sabse pehle suresh bhai ko aadab....

aapka kehna bilkul sahi hai...or waise b list me jo naam hai wo chaukaane wale nahi hai....

ashish said...

why is it like all the names of personalities,,,i meant if they r authentic or not,,,as most f d names r all of whch we knw dem...and the srvr which is given is also nt responding,,,and even when we go through the main srvr link,,no info cn be found abt publishing f ny new info regardin black money exposure...

Arvind Mishra said...

विकिलीक्स का लिंक दीजिये

Suresh Chiplunkar said...

मिश्रा जी,
विकीलीक्स का जो लिंक था वह खुल नहीं रहा है… सर्वर का पता दिया था सूत्रों ने… परन्तु अब वह गायब हो गया है…

Dhananjay said...

जब तक इस लिस्ट में सुरेश चिपलूनकर और मेरा नाम नहीं आता इस लिस्ट को सरकार नहीं मानेगी.

Suresh Chiplunkar said...

मिश्रा जी… इसीलिये मैंने लिखा है कि "फ़िलहाल" (जी हाँ फ़िलहाल) यह आधिकारिक एवं विश्वसनीय नहीं है…
परन्तु जैसा कि सभी जानते हैं, ए राजा हो अथवा नेहरु परिवार की "दास्तान" हो, शुरुआत में इस प्रकार की "अपुष्ट खबरें" ही नेट पर आती हैं और फ़िर धीरे-धीरे डॉ स्वामी जैसे जांबाज लोग उसे आधिकारिक एवं कानूनी रूप देते हैं…

ePandit said...

राजीव गाँधी का स्विस बैंक अकाउंट तो एक इटैलियन मैगजीन के जरिये पहले ही कन्फर्म हो चुका है। बाकी के नाम भी इस लिस्ट के स्वाभाविक हकदार हैं।

भगवान जूलियस असांजे का भला करे, बहुत पुण्य का काम कर रहे हैं वो। आगे भी भारत पर उनकी दया बनी रहे।

आशुतोष की कलम said...

ये सर्वविदित सत्य है की नेहरु गाँधी खंडन ने इस देश को जोंक की तरह चूसा है..
अब प्रमाण भी सामने आ गए

Neeraj नीरज نیرج said...

@सुरेश जी, अब विकिलीक्स की ओर से भी चेतावनी आ गई है कि भारतीयों के ब्लैक मनी के खुलासे आधिकारिक नहीं है बल्कि फ़र्ज़ी है।

WARNING: WikiLeaks and Indian black money: The following is a FAKE image and never appeared on WikiLeaks http://i.imgur.com/bO3dF.png
ये रहा विकिलीक्स का आधिकारिक ट्विटर पेज जहां उन्होंने इसे छाप दिया है और वह इमेज भी जिसमें भारतीय नेताओं के नाम छपे हैं। http://twitter.com/#!/wikileaks

Suresh Chiplunkar said...

नीरज भाई के स्पष्टीकरण और नये खुलासे के बाद यह मामला फ़िलहाल यहीं पर खत्म माना जाना चाहिए…।
मैं सभी से माफ़ी चाहूंगा, मेरे पास जो सूचना आई थी उसे मैंने शेयर किया परन्तु उसे आधिकारिक रूप से "पक्का" करने का मेरे पास कोई जरिया नहीं था। नीरज भाई को धन्यवाद…

ashish said...

sureshji dusri list bhi aa chuki hai ..aur usme sonia aur rahul ka bhi naam hai ....aur aapko ye jaankar hairani hogi ki sonia acc ke me 695000cr paisa...isiliye sonia bhag gayi hai...

ashish said...

ye to thik hai par aaj maine dusri list dekhi ..usme swiss account number bhi hai ise dekhkar aap ke bhi hosh ud jayenge...

Paras said...

is list ko dekh k ehsaas ho rha hai k india is poor but indians are not...itna paisa to america,england k pass bhi nhi hoga

nitin tyagi said...

सोनिया के अमेरिका के होने वाले इलाज को गुप्त रखा गया है ,कांग्रेस उनका व्यक्ति गत मामला बता कर ढंग से बात को पेश कर रही हैं |कहीं इसमें कुछ दाल में कुछ काला??नहीं सारी दाल काली तो नहीं
वैसे भी भारत की सरकार सबको पैसे ठिकाने लगाने का पूरा समय दे दिया है |

DEVSACHIN said...

it is an eye opener...

संतोष त्रिवेदी said...

सुरेशजी,इस सूची का भरोसा न करने का कोई कारण नहीं है,पर यह भी सच है कि यह अधूरी है.इसमें हर दल और पक्ष के लोग होंगे जो अभी आनी शेष है.'राष्ट्रवादियों' का भी तो देश के लिए कुछ 'योगदान' होगा !

अंकुर गुप्ता said...

https://88.80.16.63:9999 यह पता खुल नही रहा है।

अंकुर गुप्ता said...

यह लिखकर आता है
:usopp.wl NOTICE Auth :*** Looking up your hostname...
:usopp.wl NOTICE 10KAAACPD :*** Skipping host resolution (disabled by server administrator)
ERROR :Closing link: (unknown@172.0.54.65) [Registration timeout]

wikileaks said...

WARNING: WikiLeaks and Indian black money: The following is a FAKE image and never appeared on WikiLeaks

Chetan said...

rajeev gandi ke baare jankar yr bharosha nahe hota yar ab to confirm ho gya ki totaly politics are curput

Chetan said...

if all money will be back money so all pro balm in our country i hope ye ek sapna hai or sapna he rhaega kyonki ye paisa kabhe apne desh main baps nahe aayega.............

Anonymous said...

you have brought the all facts to our and other's knowledge. Thanks. Now I am keen to know from your search regarding the real cause behind secrete of so called surgery of soniya Gandhi in forigne.

vivek said...

Ye politics itni gandi ho chuki h ki sare polotician bhul chuke h apne desh ko hi khokla krke ye bhut galat kar rhe h.aur swiss bank me itna paisa jama kar diya h ki ye chahkar bi use use nh le skte...wo paia wha pada hi rh jayega....par in sab cheejo ki liye hum khud hi jimmedar h jo in desh k lutero ko kursi pe baitha dia..so now its time to wake up and stands up against corruption