Thursday, August 18, 2011

अण्णा की रेलमपेल के बीच दो व्यक्तिगत संतुष्टियाँ…:- रक्तदान और नरेन्द्र मोदी…… Blood Donation, Narendra Modi, Anna Hajare, Janlokpal


       प्रतिवर्षानुसार इस बार भी 15 अगस्त को रक्तदान शिविर में भाग लिया एवं रक्तदान किया। पिछले कुछ वर्षों से 15 अगस्त एवं 26 जनवरी को वर्ष में दो बार रक्तदान का क्रम जारी है। 15 अगस्त को किया गया रक्तदान कुल बीसवीं बार था। मेरा लक्ष्य 50 बार रक्तदान करने का है, तो प्रतिवर्ष दो बार के हिसाब से भी गणना की जाए तो अभी मुझे 15 वर्ष और लगेंगे (हालांकि विशेषज्ञों के अनुसार एक स्वस्थ व्यक्ति वर्ष में चार बार रक्तदान कर सकता है, परन्तु हमारे खानदान में शुगर लॉबी मजबूत है, इसलिए कहीं दुर्भाग्यवश मुझे डायबिटीज़ हो गई तो यह क्रम समाप्त भी हो सकता है)। कई बार व्यस्तताओं की वजह से अथवा रक्तदान कैम्प के दिन किसी आवश्यक कार्य आ जाने से इस क्रम में विघ्न भी पड़ जाता है, परन्तु पिछले 3 वर्ष से मैंने साल में दो बार रक्तदान का नियम पालन किया है। अभी मेरी आयु 47 वर्ष है, यानी रक्तदान की मेरी हाफ़-सेंचुरी का लक्ष्य 62 वर्ष की आयु में पूरा होगा। बहरहाल, अभी बीसवीं बार रक्तदान करके एक व्यक्तिगत संतुष्टि हुई है, मित्रों की शुभकामनाओं से रक्तदान की हाफ़ सेंचुरी भी निश्चित ही होगी। 

      दूसरी व्यक्तिगत संतुष्टि मुझे इस बात से मिली कि भारत के सबसे यशस्वी मुख्यमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी ने अपने आधिकारिक ब्लॉग में कश्मीर सम्बन्धी मेरी एक पोस्ट का मेरे नाम सहित ज़िक्र किया। मुझे मेरे मित्रों ने मेल करके बताया कि मोदी जी ने 29 जुलाई की अपनी पोस्ट में, मेरी गुलाम नबी फ़ई और कश्मीर के बुद्धिजीवी वाली पोस्ट (यहाँ देखें… Pseudo-Secular Intellectuals…) को अपने ब्लॉग पर जगह दी है, तो मैं चौंक गया। नरेन्द्र मोदी जी की उस पोस्ट में तीन अन्य अंग्रेजी के लेखों का भी उल्लेख है और तीनों ही एक से बढ़कर एक दिग्गज अंग्रेजी लेखक हैं, इतने बड़े-बड़े और प्रसिद्ध नामों (सर्वश्री एस गुरुमूर्ति, बी रमन एवं कंचन गुप्ता) के बीच मेरा नाम देखकर मुझे कुछ संकोच भी हुआ और खुशी भी… अतः मैंने मोदी जी को उनके व्यक्तिगत मेल आईडी पर धन्यवाद ज्ञापन प्रेषित कर दिया है। इतने प्रतिष्ठित और माननीय व्यक्ति द्वारा मेरे ब्लॉग का नाम सहित उल्लेख करने पर इसे एक मेरी विशेष उपलब्धि तो नहीं कहा जा सकता, लेकिन हाँ… निश्चित रूप से एक व्यक्तिगत संतुष्टि तो है ही, कि मेरे ब्लॉग की बात सही जगह पर पहुँच रही है और बड़े-बड़े लोगों द्वारा पढ़ी जा रही है। मेरे जैसे एक सामान्य से राष्ट्रवादी लेखक को और क्या चाहिए? (यहाँ देखें… http://www.narendramodi.com/post/Real-face-of-the-pseudo-intellectual-preachers-of-India.aspx)

फ़िलहाल अण्णा आंदोलन की रेलमपेल, ढोल-ढमाके, हो-हल्ला चहुँओर जारी है। जनलोकपाल बिल और टीम अण्णा के साथियों की गतिविधियों के बारे में एक-दो पोस्ट लिख चुका हूँ अब फ़िलहाल इस मुद्दे पर कुछ नहीं लिखने वाला, बस दूर बैठकर ठण्डे दिमाग से मीडिया की गतिविधियाँ, कांग्रेस के रवैये-चालबाजियों और टीम अण्णा के विभिन्न व्यक्तियों के क्रियाकलाप देखना है। जैसा कि पिछली पोस्ट में कह चुका हूँ, धूल-गुबार बैठने का इंतज़ार कर रहा हूँ, तब तक परम पूजनीय गाँधीवादी अण्णा हजारे को सरकारी आश्रय और सुविधाओं के बीच मीडिया-इवेंट युक्त अनशन करने दीजिये… देश का मीडिया भले ही महंगाई, बेरोज़गारी, आतंकवाद, नक्सलवाद, 2G, 3G, कलमाडी-राजा-राडिया-शीला, नकली सेकुलरिज़्म, जेहाद इत्यादि समस्याओं को अण्णा के मेले-ठेले वाले माहौल में भुला चुका हो, हम कैसे भुला सकते हैं।

इसलिए अब अण्णा-अण्णा बहुत हुआ, फ़िलहाल अण्णा समर्थक भ्रष्टाचार हटाओ के अलावा कोई बात सुनने के मूड में नहीं हैं, इसलिए अगली पोस्ट किसी अन्य प्रमुख विषय पर होगी…अण्णा का खयाल रखने के लिए बहुत लोग हैं…। जनलोकपाल आंदोलन पर कोई पोस्ट अब 15 दिनों बाद ही लिखेंगे, उम्मीद है कि तब तक अण्णा मंडली का तम्बू समेटा जा चुका होगा…

48 comments:

AMIT MISHRA said...

कोटि कोटि मुबारकबाद। ईश्वर करे आपका पचासा जल्द हो।

हिन्दुस्तानी said...

बहुत बहुत बधाई हो सुरेश जी, रक्तदान के लिए ओर मोदी जी द्वारा आपको एक अर्थ देने के लिए भी !!
अब पन्द्रह दिन का इन्तेजार नहीं करना पड़ेगा पन्द्रह दिन के पूर्व ही कोई ना कोई रास्ता निकल ही जाएगा राजकुँवर के लिए, हाँ तब तक हम आपके नए ब्लॉग के लिए आपके ब्लॉग को खंगालते रहेंगे |

yaduveer chaudhary said...

बधाई हो सर जी,ईश्वर करे आप इसी तरह राष्ट्र सेवा मे रत रहे...

Global Agrawal said...

बधाई और शुभकामनाएँ :)

Naveen Tyagi said...

रक्तदान को मै भी सबसे बड़ा दान मांगता हूँ,और साल में दो बार जरुर रक्तदान के शिविर लगवाता हूँ,मन को बहुत संतुष्टि मिलती है.

संजय बेंगाणी said...

सुरेशजी मोदीजी के लिए एक बहुत बड़ा "आईटी" दक्ष लोगो का दल स्वयं सेवक के तौर पर काम कर रहा है और आधिकारीक तौर पर भी आईटी में पीएचडी किये व्यक्ति की नियुक्ति की हुई है. ऐसे में आपको आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि आपके ब्लॉग का लेख उन तक पहुँच गया है.

डबल-बधाई.

सेंघमारी जैसी एक चीज होती है. अतः अन्ना के आन्दोलन में "विशेष विचार धारा" को घुसना चाहिए.

Ratan Singh Shekhawat said...

आपका ब्लॉग बहुत लोग पढते है जिन्हें ब्लोगिंग के बारे में पता नहीं वे भी आपको जानते है :)

Ratan Singh Shekhawat said...

एक बात और अब तो गूगल बाबा भी आपको बहुत अच्छे से पहचानने लग गए है जब भी गूगल खोज में suresh chiplun लिखते है गूगल बाबा समझ जाते है और वो इसे अपने आप नाम पूरा कर देते है suresh chiplunkar ujjain

लगता है आपके नाम से भी गूगल खोज खूब होती है:)

Anirudh Pratap Singh Yadav said...

aap ka blog bhaut log padh te he pr apni majburi ke kaarn har koi folo nahi karpata

Anonymous said...

अशेष बधाई.
पंकज.

Anonymous said...

Congratulations Suresh bhai!

As far as 'sendhmari' is concerned.

Hum ghuse huye hain, aur bhi bhai hain! :)

Chinta mat kariye, sab theek hoga.

Anuj Kushwaha said...

bahut badhai bhaiys, mai to apke vicharo ko pad kar hi kisi ghatana par ab apna koi vichar sthir karta hu.

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

सुरेश भाईसाहब, बहुत बहुत बधाई| नरेंद्र भाई मोदी जैसे राष्ट्रवादियों का आशीर्वाद मिल जाए तो ऊर्जा दो गुनी, तीन गुनी बल्कि कई गुनी बढ़ जाती है| मुझे विश्वास है की आप भी ऐसी ही ऊर्जा महसूस कर रहे होंगे, है ना ...

Neeraj Rohilla said...

सुरेश जी,
मतभेद तो चलते ही रहेंगे लेकिन आपकी रक्तदान वाली बात सुनकर आपको गले लगाने का मन कर उठा। इस नेक काम में अपना साथ देने के लिये आपको नमन.

नरेन्द्र मोदी जी के ब्लाग पर आपका जिक्र देखकर और भी अच्छा लगा।

शुभकामनायें,
नीरज रोहिल्ला

Anonymous said...

सुरेश भाई
राम राम
जैसा आप सोच रहे हैं वैसा ही होगा किन्तु इतना ध्यान रखिये कि टीम अन्ना के योजना कार भी असाधारण लोग है . वे केवल अपनी योजनाओं क अंजाम ही नहीं दे रहे हैं वे कुछ सर्वेक्छण भी कर रहें हैं जिसमे एक है राष्ट्रवादियों की षडयंत्रो को सूंघने की शक्ति का अनुमान पाना .
ये लोग भूल गए कि जो मीडिया बाबा पर तमाम सवाल उठा रहा था वही अचानक इतना मुखर कैसे हो गया ?
जो भाजपा अपना हित देख रही है वह समझ नहीं प़ा रही कि लोकपाल का सबसे बड़ा इस्तेमाल उसकी सरकार को ब्लैक मेल करने के लिए ही विदेशी शक्तियाँ करेंगी .
यहाँ कपिल सिब्बल की नीयत को नज़र अंदाज़ करते हुए उसकी एक सटीक टिप्पणी को quote करना चाहिए कि अन्ना का यह लोकपाल ब्लैक मैलिंग बढ़ाएगा इस ब्लैक मैलिंग से कौन फायदा उठ्येगा इसका जिक्र उन्होंने नहीं किया किन्तु साफ है कि प्रधानमंत्री जैसे पद को ब्लैक मेल करने वाला वंदा भी कोइ बड़ा शक्तिशाली देश ही हो सकता है ,और इसका फायदा उठाने के लिए लोमड और भेडिए ,चील और कव्वे सभी मित्र होने को तय्यार हो जाते हैं
बाबा रामदेव का मुद्दा सीधी चोट करता था चोरों की सारी लूट बरामद होना थी ,लेकिन जन लोकपाल तो तभी कारगर होगा जब कि कोई सच्चा राष्ट्र भक्त गलती से लोकपाल हो जाये जिसकी सम्भावना केवल चमत्कार ही हो सकती है सरकारी लोकपाल में तो वह भी संभव नहीं है हालाँकि यह भी सच है कि जब कोइ रास्ट्र भक्त पुलिस वाला अपनी जान हथेली पर ले लेता है तो किसी भी भ्रष्टाचारी को निपटा देता है
हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि अभी भी बड़े घोटाले न्यायपालिका और औडिटर genral जैसी संस्थाओं में बची राष्ट्र भक्ती और निष्ठां का परिणाम थे
हाँ अन्ना को लेकर नियती एक आशा जगाती है कि कांग्रेस का जन्म भी भारतमें १८५७ के सेफ्टी वाल्व के रूप में हुआ था और अंतत वही आज़ादी के हथियार के रूप में बदल गयी , यह जो जन जागरण हो रहा है यदि इसका ठीक उपयोग हो गया तो राष्ट्रवाद का ज्वार गद्दारों के उन्मूलन के लिए हृदय परिवर्तन का एक बड़ा अवसर होगा भले ही यह प्रीत भी भय के कारण उपजी हो , मैं परमात्मा से यही प्रार्थना करता हूँ कि यह जो जन जागरण है इसे हम षड्यंत्र कारियों की बुरी नज़र से बचा पाए और बाबा रामदेव तब तक अपनी शक्ति और रणनीति तय्यार कर लूट बरामद करने के अभियान पर निकलने वाले सैलाब को नेत्रत्व देने को तत्पर रहें ,
भारत माता की जय

Anonymous said...

सुरेश भाई
राम राम
जैसा आप सोच रहे हैं वैसा ही होगा किन्तु इतना ध्यान रखिये कि टीम अन्ना के योजना कार भी असाधारण लोग है . वे केवल अपनी योजनाओं क अंजाम ही नहीं दे रहे हैं वे कुछ सर्वेक्छण भी कर रहें हैं जिसमे एक है राष्ट्रवादियों की षडयंत्रो को सूंघने की शक्ति का अनुमान पाना .
ये लोग भूल गए कि जो मीडिया बाबा पर तमाम सवाल उठा रहा था वही अचानक इतना मुखर कैसे हो गया ?
जो भाजपा अपना हित देख रही है वह समझ नहीं प़ा रही कि लोकपाल का सबसे बड़ा इस्तेमाल उसकी सरकार को ब्लैक मेल करने के लिए ही विदेशी शक्तियाँ करेंगी .
यहाँ कपिल सिब्बल की नीयत को नज़र अंदाज़ करते हुए उसकी एक सटीक टिप्पणी को quote करना चाहिए कि अन्ना का यह लोकपाल ब्लैक मैलिंग बढ़ाएगा इस ब्लैक मैलिंग से कौन फायदा उठ्येगा इसका जिक्र उन्होंने नहीं किया किन्तु साफ है कि प्रधानमंत्री जैसे पद को ब्लैक मेल करने वाला वंदा भी कोइ बड़ा शक्तिशाली देश ही हो सकता है ,और इसका फायदा उठाने के लिए लोमड और भेडिए ,चील और कव्वे सभी मित्र होने को तय्यार हो जाते हैं
बाबा रामदेव का मुद्दा सीधी चोट करता था चोरों की सारी लूट बरामद होना थी ,लेकिन जन लोकपाल तो तभी कारगर होगा जब कि कोई सच्चा राष्ट्र भक्त गलती से लोकपाल हो जाये जिसकी सम्भावना केवल चमत्कार ही हो सकती है सरकारी लोकपाल में तो वह भी संभव नहीं है हालाँकि यह भी सच है कि जब कोइ रास्ट्र भक्त पुलिस वाला अपनी जान हथेली पर ले लेता है तो किसी भी भ्रष्टाचारी को निपटा देता है
हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि अभी भी बड़े घोटाले सामने आना न्यायपालिका और औडिटर genral जैसी संस्थाओं में बची राष्ट्र भक्ती और निष्ठां का परिणाम थे
हाँ अन्ना को लेकर नियती एक आशा जगाती है कि कांग्रेस का जन्म भी भारतमें १८५७ के सेफ्टी वाल्व के रूप में हुआ था और अंतत वही आज़ादी के हथियार के रूप में बदल गयी , यह जो जन जागरण हो रहा है यदि इसका ठीक उपयोग हो गया तो राष्ट्रवाद का ज्वार गद्दारों के उन्मूलन के लिए हृदय परिवर्तन का एक बड़ा अवसर होगा भले ही यह प्रीत भी भय के कारण उपजी हो , मैं परमात्मा से यही प्रार्थना करता हूँ कि यह जो जन जागरण है इसे हम षड्यंत्र कारियों की बुरी नज़र से बचा पाए और बाबा रामदेव तब तक अपनी शक्ति और रणनीति तय्यार कर लूट बरामद करने के अभियान पर निकलने वाले सैलाब को नेत्रत्व देने को तत्पर रहें ,
भारत माता की जय

रचना said...

नरेन्द्र मोदी जी के ब्लाग पर आपका जिक्र देखकर अच्छा लगा।

abhi aap kaa safar shuru hua haen
aagey bahut janaa haen aap jaese vyakti ko

blog maadhyam kaa sahii swaroop yahii miltaa haen

sadar ssneh
rachna

Man said...

बधाई हो सर आप पर माँ भवानी का और महाकाल का आशीर्वाद बना रहे |शुभ कामनाये

महफूज़ अली said...

Many many congrats......... aur jaldi se aap after effect likhen....

Man said...

आप का अनुमान सही निकला ,बिलकुल वो हो प्रक्रिया अन्ना आन्दोलन की ,राम लीला मैदान से मनमोहन को हटा के भोंदू जी की ताज पोशी @.......................................................लंदन. ब्रिटेन के प्रमुख साप्ताहिक पत्र ‘इकॉनामिस्ट’ ने कहा है कि राहुल गांधी की पीएम के तौर पर ताजपोशी और जल्दी हो सकती है। इसके मुताबिक, सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सरकार को हिला कर रख दिया है। ऐसे में अब संभावना है कि कांग्रेस महासचिव को जल्द ही यह पद सौंपा जाए।

अन्ना हजारे के आंदोलन के बारे में ‘इकॉनामिस्ट’ ने यह भी कहा है कि सोनिया गांधी की बीमारी के कारण सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। इस बारे में संदेह बना हुआ है कि सोनिया गांधी कब तक स्वदेश लौट सकेंगी। ऐसे में संभव है कि राहुल गांधी को शीघ्र ही बड़ी जिम्मेदारी दे दी जाए।

रिपोर्ट में कहा गया कि कांग्रेस का मानना है कि अन्ना का आंदोलन शहरों तक सीमित है। इसमें लोकतांत्रिक प्रणाली की कमजोरियों से क्षुब्ध छात्र और रोमांटिक लोग शामिल हैं।...........................http://www.bhaskar.com/article/INT-rahul-gandhi-may-be-given-responsibility-in-india-2364313.html?HT5=

Lakshay said...

Raktdaan karne per aapko badhai... but ye Raktdaan to aap jyada bhi kar sakte hain , bahot logon ka khoon piya hai aapne, esliye blood ki problem nahi hogi.... Aise hi likhte rahen or aage badhen. Subhakanshi, Lakshay

Ronak Virani said...

इसलिए अब अण्णा-अण्णा बहुत हुआ, फ़िलहाल अण्णा समर्थक “भ्रष्टाचार हटाओ” के अलावा कोई बात सुनने के मूड में नहीं हैं, इसलिए अगली पोस्ट किसी अन्य प्रमुख विषय पर होगी…अण्णा का खयाल रखने के लिए बहुत लोग हैं…। जनलोकपाल आंदोलन पर कोई पोस्ट अब 15 दिनों बाद ही लिखेंगे, उम्मीद है कि तब तक अण्णा मंडली का तम्बू समेटा जा चुका होगा...


Didnt like your this statement... why you are against Anna inspite of whole country is with Anna... Atleast he is doing something good for nation and he is only person who gather country after such a long tome and also which is non-political event...

दीपक बाबा said...

@ और बड़े-बड़े लोगों द्वारा पढ़ी जा रही है। मेरे जैसे एक सामान्य से राष्ट्रवादी लेखक को और क्या चाहिए?

बहुत बहुत बधाई हो.....
मेरे जैसे के लिए भी ये किसी पुरूस्कार से कम नहीं है...

mukesh567 said...

I have been your follower since beginning.I met Mr.jayendra Modha and Mr Zala and some more personal officers of Mr Narendra Modi in Feb 2011.We talked about your blog at that meeting.After that meeting i sent a lot of your articles to Mr .Modha.Your every new article is being forwarded to their mail Id.

अवनीश सिंह said...

कोटि कोटि मुबारकबाद सुरेश जी ,
अब तक तो आप ब्लॉग जगत के हिंदू शेरों के नेतृत्वकर्ता थे पर अब तो आप की पहुँच राजनीति के सबसे बड़े हिंदू शेर तक हो गयी | पदोन्नति के लिए बधाई स्वीकार करें |
वैसे मैंने आपके बारे में "पांचजन्य ,जनवरी २०११" में भी पढ़ा था |
आपके ब्लॉग तक मैं गूगल से पहुंचा था | आपका ब्लॉग शीर्ष १० में था |

Anonymous said...

us me konsi badi bat hai??
aap ke lekh itane damdar hote hai!!!
modi ne bhahaot der se aap ka blog ko notice kai :(

any how best of luck !! keep it up!!

Desh Premi said...

Kotishah badhai suresh bhai !!
aaj har sacha hindustani bhai shree narendra Modi ka diwana hai or aaj samay ye aaya hai ki wo aapke blog ka link de rahe hai
bahut hi garv ka vishay hai !!

सञ्जय झा said...

bhau...........aaj ka 'breaking news"
blog balak ke liye......subhkamnayen


pranam.

सुज्ञ said...

बधाई!!

आपके लेखन का योग्य सम्मान है।

prasoon bajpai said...

Apke lakh etne acchai hote he ki jo ek baar padh le. vh hamesh apko yaad rakhega. Apke lekho ko desh ke pradhan mantri Sri Man Mohan Singh ko bhi Padna cahiya. Modi ji ne apna lakh pada. eske liya apko badhai. Prasoon Bajpai

Ashwani said...

एक दिन सोनिया गांधी के सपने में महात्मा गांधीजी आकर बोले,"मैने मरते समय कॉंग्रेस को सादगी, ईमानदारी, टोपी, चश्मा और डंडा दिया था, कहॉं है वो?" सोनिया ने अत्यंत विनम्रता से कहा,"टोपी तो राहुल लोगोंको पहना रहा है. सादगी मेरे और प्रियंका के पास है. चश्मा मनमोहन के पास है. ईमानदारी स्विस और ईटली के बैंक में सेफ है और डंडा आम आदमी की सेवा में लगा रखा है

Anonymous said...

modi ne tumhara jikr apni web site me kiya hai yah baat sachmuch tumhare liye khushi ki baat hai kyuki chaaplosi ka natija aa gaya.....

Anonymous said...

suresh j,aap dhany h,aapki new post ka intjar h.

bhartiya naagrik said...

badhai ho...

सञ्जय झा said...

@anonymous....

modi ne tumhara...........

bhai, benami bhaw aur unke chahnewalon ke liye 'uchit' hi khushi
ki baat hai, lekin tum jaison ke liye
dono taraf se 'lgane' wali baat hai to koi 'anuchit' nahi......

hindutwa evam rastravad ki jai ho...

सुलभ said...

अनामियों को ये बताने की जरुरत नहीं है कि 'डरपोक' चापलूस गीदर और 'हिम्मतवर' नायक शेर में क्या अंतर होता है.
--
ऊर्जा बनी रहे इसके लिए व्यक्तिगत संतुष्टि भी बहुत जरुरी है. आपको बधाई !! बस श्री गीता की एक बात याद रखिये - कर्म किये जा, फल की चिंता छोड़ दे.

abhishek said...

आपको बधाईयाँ।आपका ब्लाँग बहुत लोग पढ़ते है।जो नेट का उपयोग करना ना जानते है वो भी पढ़ते है

Bhavin said...

bahot bahot badhai aapko, aap aise hi likhte rahe aur hame vibhinn aayamo me hame sochne ke liye prerit karte rahe.....

Jitendra Dave said...

सुरेशजी कामना करता हूँ कि आपका खून किसी सेकुलर के जिस्म में चले जाए ताकि उसकी अक्ल सीधी हो.

YOGA said...

सुरेश जी, नमस्कार , रोबेर्ट वडेरा कांग्रेस के दामाद जी से सम्बंधित तथ्य भी जुटाकर हमें लाभान्वित करने की कृपा करें

संजय @ मो सम कौन ? said...

आप और सामान्य से राष्ट्रवादी लेखक..?
क्या बात करते हैं सुरेश जी.

दोनों समाचार हर्ष के हैं, बधाई स्वीकारें और लगे रहें।

Anonymous said...

http://www.youtube.com/watch?v=iYwQqwmt-28

Vimlesh Trivedi said...

CHIPLUNKAR JI SADAR ABHIWADAN

SUNDAR SUASPST LEKH KE LIYR BADHAYI

शैलेन्द्र कुमार said...

सुरेश जी स्वामी अग्निवेश की असलियत सामने आ गयी इंडिया टीवी देखे

शैलेन्द्र कुमार said...

http://jantantra.com/ पर देखे स्वामी अग्निवेश कि करतूत

ajay said...

sir apka bahut badhai.modi ji ke site par apka naam dekhakar bahut khushi hui ki ab apke vichar sabhi jagah pahuchane lage hai.

ROHIT MISRA said...

chiplunkar ji..........sarvpratham aapka naam manniya SHRI NARENDRA MODI JI k blog par aane k liye aapko koti koti badhayiya.
tatha hum yuvawo ka marg darshan karne k liye koti koti dhanyawaad.aur aapse nivedan hai ki isi tarah hamara margdarsan karte rahe.

भरतसिंह बावरला said...

अरे बापरे क्या बात है...सुरेश भाई का जादु तो लोगो के सिर चढ़कर बोल रहा है...मैं तो आज पहली बार आपके ब्लागं पर आया हु...पर वास्तव में लोगो के कंमेट और आपके शानदार लेख ने मुझे इतना प्रभावित किया कि म्रं क्या कहुं.......बस ये कारवां चलता रहे..।