Sunday, May 8, 2011

व्यस्तता बढ़ गई है… स्नेह एवं धैर्य बनाए रखें

कई मित्र फ़ोन करके एवं कई शुभचिन्तक पाठक ईमेल करके पूछ रहे हैं कि काफ़ी दिनों (26 अप्रैल के बाद) से कोई ब्लॉग पोस्ट नहीं आई, क्यों नहीं आई?

मित्रों, विभिन्न परीक्षाओं के रिजल्ट का मौसम शुरु हो चुका है, साथ ही शादी-ब्याह के दो प्रमुख वार्षिक सीजन में एक (मई-जून) भी जारी है…

दाल-रोटी एवं धंधे-पानी (सायबर कैफ़े-झेरोक्स) के साथ-साथ, सामाजिक एवं पारिवारिक जिम्मेदारियाँ निभाने (अर्थात विवाह समारोहों में शिरकत करने) में अत्यधिक व्यस्त हूं… अतः फ़िलहाल लेखन कार्य धीमा पड़ा हुआ है…

चाहता तो मैं भी यही हूँ कि कभी ऐसा दिन भी आए कि सिर्फ़ लेखन करके ही मेरा घर-परिवार का खर्च चल जाए, परन्तु ऐसा सम्भव नहीं है, खासकर "हिन्दुत्ववादी" लेखन करके।

अतः प्रिय पाठकों,  "अतिरिक्त समय मिलते ही" जल्द ही वापसी करूँगा… आपके स्नेह एवं जताई गई चिंताओं के प्रति हार्दिक आभार…

12 comments:

एम सिंह said...

हम इंतज़ार करेंगे.

Anonymous said...

We enjoy reading your ideas................Hope you start your posting soon

Ravish said...

Apke Blog ke Bara me Shikhar Jharkhand Magazine Se Mili. Dhanyavad.

Kajal Kumar said...

प्रतीक्षा रहेगी :)

Ratan Singh Shekhawat said...

आपके लेखों की तो हमेशा प्रतीक्षा रहती है , आपके लेख प्रकाशित होने में विलम्ब होने पर हम तो यही सोचते है कि "किसी धुंआधार खुलासे" की तैयारी हो रही है |

राज भाटिय़ा said...

चलिये अपनी परिवारिक जिम्मेदारियां भी जरुर निभाये, हमारी शुभकामनाऎं

sudesh sharma said...

aur bhi gam hai jamane me, likhane ke siva......chinta dur huyi
dhanyvad !

Pranay said...

ham intazar karenge.....

Pranay Munshi said...

कोई बात नहीं हमें पता है आप गहन विश्लेषण में लगे होंगे ............ लगे रहो

Deepesh said...

इस मौसम का भी आनंद लिजिए, हम प्रतिक्षारत है।

AMIT MISHRA said...

हमें बेसब्री से इंतजार है उस पल का जब आपकी नई पोस्ट पढ़ने को मिलगी

Anonymous said...

lage rahooo.