Friday, February 22, 2008

क्या मुम्बई के डिब्बेवालों, तिरुपुर और नमक्कल से हम कुछ सीखेंगे?

Mumbai Dibbawalas, Tirupur, Namakkal, IIM

कुछ समय पहले एक प्रतिष्ठित आईआईएम के निदेशक बड़े गर्व से टीवी पर बता रहे थे कि उनके यहाँ से 60 छात्रों का चयन बड़ी-बड़ी कम्पनियों में हो गया है (जाहिर है कि मल्टीनेशनल में ही)…एक छात्र को तो वार्षिक साठ लाख का पैकेज मिला है और दूसरे को अस्सी लाख वार्षिक का…। लेकिन यहाँ सवाल उठता है कि इतना वेतन लेने वाले ये मैनेजर आखिर करेंगे क्या? मल्टीनेशनल कम्पनियों के लिये शोषण के नये-नये रास्ते खोजने का ही… जो कम्पनी इन्हें पाँच लाख रुपये महीना वेतन दे रही है, जाहिर है कि वह इनके “दिमाग”(?) के उपयोग से पचास लाख रुपये महीना कमाने की जुगाड़ में होगी, अर्थात ये साठ मेधावी छात्र आज्ञाकारी नौकर मात्र हैं, जो मालिक के लिये कुत्ते की तरह दिन-रात जुटे रहेंगे।

इन साठ छात्रों का चयन भारत के बेहतरीन मैनेजमेंट इन्स्टीट्यूट में तब हुआ जब वे लाखों के बीच से चुने गये, इनके प्रशिक्षण और रहन-सहन पर इस गरीब देश का करोड़ों रुपया लगा। लेकिन क्या सिर्फ़ इन्हें बहुराष्ट्रीय (या अम्बानी, टाटा, बिरला) कम्पनियों के काम से सन्तुष्ट हो जाना चाहिये? क्या ये मेधावी लोग कभी मालिक नहीं बनेंगे? क्या इनके दिमाग का उपयोग भारत के फ़ायदे के लिये नहीं होगा? इनमें से कितने होंगे जो कुछ सैकड़ों लोगों को ही रोजी-रोटी देने में कामयाब होंगे? यदि भारत के बेहतरीन दिमाग दूसरों की नौकरी करेंगे, तो नौकरी के अवसर कौन उत्पन्न करेगा? दुर्भाग्य की बात यह है कि मैनेजमेंट संस्थानों से निकलने वाले अधिकतर युवा “रिस्क” लेने से घबराते हैं, वे उद्यमशील (Entrepreneur) बनने की कोशिश नहीं करते।

अब तस्वीर का दूसरा पक्ष देखिये। रिलायंस, अम्बानी, टाटा, बिरला, मित्तल का नाम तो सभी जानते हैं, लेकिन कितने लोग तिरुपुर या नमक्कल के बारे में जानते हैं? तिरुपुर, तमिलनाडु के सुदूर में स्थित एक कस्बा है, जहाँ लगभग 4000 छोटे-बड़े सिलाई केन्द्र और अंडरवियर/बनियान बनाने के कुटीर उद्योग हैं। उनमें से लगभग 1000 इकाईयाँ इनका निर्यात भी करती हैं। पिछले साल अकेले तिरुपुर का निर्यात 6000 करोड़ रुपये का था, जो कि सन 1985 में सिर्फ़ 85 करोड़ था। इन छोटी-छोटी इकाईयों और कारखानों की एक एसोसियेशन भी है तिरुपुर एक्सपोर्टर एसोसियेशन। लेकिन सबसे खास बात तो यह है कि दस में से नौ कामगार खुद अपनी इकाई के मालिक हैं, वे लोग पहले कभी किसी सिलाई केन्द्र में काम करते थे, धीरे-धीरे खुद के पैरों पर खड़ा होना सीखा, बैंक से लोन लिये और अपनी खुद की इकाई शुरु की। तिरुपुर कस्बा अपने आप में एक पाठशाला है कि कैसे लोगों को उद्यमशील बनाया जाता है, कैसे उनमें प्रेरणा जगाई जाती है, कैसे उन्हें काम सिखाया जाता है। इनमें से अधिकतर लोग कभी किसी यूनिवर्सिटी या मैनेजमेंट संस्थान में नहीं गये, इनके पास कोई औपचारिक डिग्री नहीं है, लेकिन ये खुद अपना काम तो कर ही रहे हैं दो-चार लोगों को काम दे भी रहे हैं जो आगे चलकर खुद मालिक बन जायेंगे।

जाहिर सी बात है कि अधिकतर कामगार/मालिक अंग्रेजी नहीं जानते, लेकिन फ़िर भी वैश्विक चुनौतियों का वे बखूबी सामना कर रहे हैं, रेट्स के मामले में भी और ग्राहक की पसन्द के मामले में भी। पश्चिमी देशों के मौसम और डिजाइन के अनुकूल अंडर-गारमेण्ट्स ये लोग बेहद प्रतिस्पर्धी कीमतों पर निर्यात करते हैं। इन्हीं में से एक पल्लानिस्वामी साफ़ कहते हैं कि “जब वे बारहवीं कक्षा में फ़ेल हो गये तब वे इस बिजनेस की ओर मुड़े…”। आज की तारीख में वे एक बड़े कारखाने के मालिक हैं, उनका 20 करोड़ का निर्यात होता है और 1200 लोगों को उन्होंने रोजगार दिया हुआ है। वे मानते हैं कि यदि वे पढ़ाई करते रहते तो आज यहाँ तक नहीं पहुँच सकते थे। और ऐसे लोगों की तिरुपुर में भरमार है, जिनसे लक्स, लिरिल, रूपा आदि जैसे ब्राण्ड कपड़े खरीदते हैं, अपनी सील और पैकिंग लगाते हैं और भारी मुनाफ़े के साथ हमे-आपको बेचते हैं, लेकिन सवाल उठता है कि आईआईएम और उनके छात्रों ने देश में ऐसे कितने तिरुपुर बनाये हैं?

मुम्बई के डिब्बेवालों की तारीफ़ में प्रिंस चार्ल्स पहले ही बहुत कुछ कह चुके हैं, उनकी कार्यप्रणाली, उनकी कार्यक्षमता, उनकी समयबद्धता वाकई अद्भुत है। मजे की बात तो यह है कि उनमें से कई तो नितांत अनपढ़ हैं, लेकिन मुम्बई के सुदूर उपनगरों से ठेठ नरीमन पाइंट के कारपोरेट दफ़्तरों तक और वापस डिब्बों को उनके घर तक पहुँचाने में उनका कोई जवाब नहीं है। अब कई मैनेजमेंट संस्थान इन पर शोध कर रहे हैं, लालू भी इनके मुरीद बन चुके हैं, लेकिन इनका जीवन आज भी वैसा ही है। इनकी संस्था ने हजारों को रोजगार दिलवाया हुआ है, खाना बनाने वालों, छोटे किराना दुकानदारों, गरीब बच्चों, जिन्हें कोई बड़ा उद्योगपति अपने दफ़्तर में घुसने भी नहीं देता। आईआईएम के ही एक छात्र ने चेन्नई में अपना खुद का केटरिंग व्यवसाय शुरु किया, शुरु में सिर्फ़ वह इडली बनाकर सप्लाई करते थे, आज उनके पास कर्मचारियों की फ़ौज है और वे टिफ़िन व्यवसाय में जम चुके हैं, लेकिन उनकी प्रेरणा स्रोत थीं उनकी माँ, जिन्होंने बेहद गरीबी के बावजूद अपने मेधावी बेटे को आईआईएम में पढ़ने भेजा, लेकिन सवाल यही है कि ऐसा कदम कितने लोग उठाते हैं?

एक और उदाहरण है नमक्कल का। जाहिर है कि इसका नाम भी कईयों ने नहीं सुना होगा। नमक्कल के 3000 परिवारों के पास 18000 ट्र्क हैं। भारत के 70% टैंकर व्यवसाय का हिस्सा नमक्कल का होता है। चकरा गये ना !! तिरुपुर की ही तरह यहाँ भी अधिक पढ़े-लिखे लोग नहीं हैं, ना ही यहाँ विश्वविद्यालय हैं, न ही मैनेजमेंट संस्थान। लगभग सभी टैंकर मालिक कभी न कभी क्लीनर थे, किसी को अंग्रेजी नहीं आती, लेकिन ट्रक के मामले में वे उस्ताद हैं, पहले क्लीनर, फ़िर हेल्पर, फ़िर ड्रायवर और फ़िर एक टैंकर के मालिक, यही सभी की पायदाने हैं, और अब नमक्कल ट्रकों की बॉडी-बिल्डिंग (ढांचा तैयार करने) का एक बड़ा केन्द्र बनता जा रहा है। एक समय यह इलाका सूखे से लगातार जूझता रहता था, लेकिन यहाँ के मेहनती लोगों ने पलायन करने की बजाय यह रास्ता अपनाया।

पहले उन्होंने हाइवे पर आती-जाती गाड़ियों पर कपड़ा मारने, तेल-हवा भरने का काम किया, फ़िर सीखते-सीखते वे खुद मालिक बन गये। आज हरेक ट्रक पर कम से कम तीन लोगों को रोजगार मिलता है। एक-दो को देखकर दस-बीस लोगों को प्रेरणा मिलती है और वह भी काम पर लग जाता है, ठीक तिरुपुर की तरह। यह एक प्रकार का सामुदायिक विकास है, सहकारिता के साथ, इसमें प्रतिस्पर्धा और आपसी जलन की भावना तो है, लेकिन वह उतनी तीव्र नहीं क्योंकि हरेक के पास छोटा ही सही रोजगार तो है। और यह सब खड़ा किया है समाज के अन्दरूनी हालातों के साथ लोगों की लड़ने की जिद ने, न कि किसी आईआईएम ने। यही नहीं, ऐसे उदाहरण हमें समूचे भारत में देखने को मिल जाते हैं, चाहे वह कोयम्बटूर का वस्त्रोद्योग हो, सिवाकासी का पटाखा उद्योग, लुधियाना का कपड़ा, पटियाला का साइकिल उद्योग हो (यहाँ पर मैंने “अमूल” का उदाहरण नहीं दिया, वह भी सिर्फ़ और सिर्फ़ कुरियन साहब की मेहनत और सफ़ल ग्रामीण सहकारिता का नतीजा है)।

मोटी तनख्वाहें लेकर संतुष्ट हो जाने और फ़िर जीवन भर किसी अंग्रेज की गुलामी करने वालों से तो ये लोग काफ़ी बेहतर लगते हैं, कम से कम उनमें स्वाभिमान तो है। लेकिन जब मीडिया भी अनिल-मुकेश-मित्तल आदि के गुणगान करता रहता है, वे लोग भी पेट्रोल से लेकर जूते और सब्जी तक बेचने को उतर आते हैं, “सेज” के नाम पर जमीने हथियाते हैं, तो युवाओं के सामने क्या आदर्श पेश होता है? आखिर इतनी पूंजी का ये लोग क्या करेंगे? एक ही जगह इतनी ज्यादा पूंजी का एकत्रीकरण क्यों? क्या नीता अम्बानी को जन्मदिन पर 300 करोड़ का हवाई जहाज गिफ़्ट में देना कोई उपलब्धि है? लेकिन हो यह रहा है कि कॉलेज, संस्थान से निकले युवक की आँखों पर इन्हीं लोगों के नामों का पट्टा चढ़ा होता है, वह कुछ नया सोच ही नहीं पाता, नया करने की हिम्मत जुटा ही नहीं पाता, उसकी उद्यमशीलता पहले ही खत्म हो चुकी होती है। इसमें अपनी तरफ़ से टेका लगाते हैं, मैनेजमेंट संस्थान और उनके पढ़े-लिखे आधुनिक नौकर। जबकि इन लोगों को तिरुपुर, नमक्कल जाकर सीखना चाहिये कि स्वाभिमानी जीवन, लाखों की तनख्वाह से बढ़कर होता है…। जो प्रतिभाशाली, दिमागदार युवा दूसरे के लिये काम कर सकते हैं, क्या वे दो-चार का समूह बनाकर खुद की इंडस्ट्री नहीं खोल सकते? जरूर कर सकते हैं, जरूरत है सिर्फ़ मानसिकता बदलने की…

, , , , , , ,, , , , ,

13 comments:

दीपक भारतदीप said...

आखिर इस देश में आजादी के बाद भी लार्ड मैकाले की अंग्रेजी और उसकी शिक्षा पद्धति क्यों जारी रखी गयी ताकि
१.अपनी भाषा भूल जाओ अंग्रेजी पढो और अपनों पर रुतवा दिखाओ. विदेश में छोटी नौकरी भी करो तो यहाँ साहब कहलवाओ.
२. वाद और नारों पर देश के चलाओ, सपने दिखाओ और जो यहाँ का ताक़तवर तबका है उसकी पीढियों का वर्चस्व स्वीकार करते जाओ.
३.लोग नौकरी के लिए भटकें और मालिक बनने की सोचें ही नहीं.

संजय तिवारी said...

आई-आई-एम उम्दा किस्म के ठग पैदा करता है. और यह मत कहिए वे लोग प्रतिभाशाली हैं. जो प्रतिभाशाली होगा वह कभी भी कंपनी के पेरोल पर लोगों को ठगने की योजना नहीं बनाएगा.

mamta said...

नमक्कल के बारे मे जानकर पहली बार पढ़ा।
वैसे आज कल के युवा कोई भी रिस्क उठाने को तैयार नही होते है।

अनूप शुक्ल said...

सही सवाल उठाये हैं।

रीतेश said...

अच्छी खबर है..
शुक्रिया..

भुवनेश शर्मा said...

हमारे प्रिय राष्‍ट्रपति भी छात्रों से यही कहा करते थे.

बहुत ही बढि़या पोस्‍ट- सफेद कालर वाले नौकरों की यह जमात हमें रसातल में ले जा रही है पर इनके बारे में कुछ भी कहना प्रगतिशीलता का विरोधी माना जाता है. लोग कम्‍युनिस्‍ट तक कह देते हैं..

भुवनेश शर्मा said...

ऊपर प्रिय राष्‍ट्रपति के साथ अब्‍दुल कलाम पढ़ा जाये.

mahashakti said...

यह पोस्‍ट मुझे आपके सबसे बेहतरीन पोस्टों में से एक लगी, त्रिपुर के बारे में बहुत सुना था, जो आप कह रहे है वह वास्तविकता है, यही कारण है कि आज भी लक्स और अमूल जैसी अनेको कम्‍पननियों की वेवसाईट नही है, इसलिये नही है कि वह साधन सम्‍पन्‍न नही है इसलिये कि वह लोगों को क्‍या बातइयेगी कि हमारा उत्‍पाद कहॉं बनता है।

नमक्‍कल का नाम मै पहली बार सुन रहा हूँ किन्तु जानकर काफी अच्‍छा लग रहा है, मेरी इच्‍छा रही है कि एक शिक्षक बनने का किन्‍तु वास्‍तविकता यही है कि मै अपने स्‍वयं के काम पर बल देना चाहता हूँ,कुछ ऐसा काम हो कि मेरे अलावा चार की और आजिविका चले, अगर स्‍वयं के लिये जीना ही जीना है तो पशु भी ली लेते है।

इस लेख की जितनी प्रशंशा की जाये कम होगी।

naveen said...

Aap apne bachho se kya karvana chahte hai?

Ganesh Prasad said...

bahut hi dadiya...

Rajendra jangid said...

SURESHJI NAMASKAR,,

AAj pahali baar aapke Blog par Internet me surf karate karate Nigaah pad gayee. Yakin maniye subah 9.00 Am Se Pad raha hun aur ab 8.00 PM ho chuke par abhi man nahi bhara. Yaar kya lekh likhte hai Ekdam Neeraj Deewan Shahb ki Tarah Sach me dil Kush Ho Gaya.. aur AANKH bhi khul gayee. AApke iss blog ko main anmol ratna Kahunga...

ITNE BADIYA BLOG KE LIYE AAPKO SADHUVAAD..
JAI HIND..

P.N. Subramanian said...

बहुत ही सुन्दर एवं सार्थक पोस्ट.

Subhash Sharma said...

आपने इस पोस्ट में तो कमाल ही कर दिया।

यह आई आई एम आखिर है क्या बला? क्या हम जानते हैं कि हमारी ही गाढ़ी कमाई का हवन करके सरकार देश के सर्वोत्तम युवा मस्तिष्कों को इन नर्सरियों में तैयार करती है। किस पावन उद्देश्य से?
यही कि बहुराष्ट्रीय कंपनियों की गुलाम बन कर उन्हें हमारी गाढ़ी कमाई को छीनने के नित्य-नूतन हथकंडे बहुराष्ट्रीय कंपनियों की सेवा में प्रस्तुत करने के लिए।
सीधे कहें तो - हमारे ही पैसे से हमीं को लूटने वाले तैयार किये जाते हैं इन आई आई एम नामधारी फेक्टरियो में।
यदि यह गलत है तो बताइये-आई आई एम के कितने उत्पाद! क्षमा कीजिये, छात्र हैं, जिन्होंने देश-समाज के लिए कोई भी योगदान किया हो।