Friday, January 25, 2008

ब्लॉग (चिठ्ठा) हिट करने के चुने हुए फ़ार्मूले

To Become a Hit Hindi Blogger

हालांकि इस विषय पर पहले भी कई चिठ्ठाकार अपनी कलम चला चुके हैं, लेकिन अब चूँकि मुझे भी ब्लॉगिंग करते हुए एक साल हो गया है, सो “नये” ब्लॉगरों के लिये, उनका चिठ्ठा “दिन दूनी रात चौगुनी” तरक्की करे, इसलिये अपने अनुभवों(?) से कुछ फ़ॉर्मूले पेश करना मेरा फ़र्ज बनता है (इस मामले में किसी का कॉपीराइट यदि है तो वह है “दुर्योधन” का)। मुझे पूरा विश्वास है कि इन फ़ॉर्मूलों में से लगभग सभी “आजमाये” जा चुके हैं और सफ़ल भी रहे हैं, इसलिये जिन चिठ्ठाकारों ने अब तक इनमें से एक भी फ़ॉर्मूला नहीं अपनाया है (यानी मेरे जैसे) वे इनमें से एक या दो या सभी फ़ॉर्मूलों को अपनायें, और जो इन्हें पहले ही अपना कर चिठ्ठा हिट करवा चुके हैं, वे हम जैसे अज्ञानियों को नये-नये फ़ॉर्मूले बताने का कष्ट करें, ताकि हमारे भी ज्ञानचक्षु खुल सकें…

(1) अपने आपको “धर्मनिरपेक्ष”, “अगुआ”, “वामपंथी” साबित करो-
मतलब कैसे करें? बताता हूँ… मुसलमानों के पक्ष में जितना और जैसा भी लिख सकते हों, लिखें… साथ में नरेन्द्र मोदी को जम कर गरियाना ना भूलें… जैसे ही भाजपा या आरएसएस का नाम भी कहीं दिखे, तड़ से पिल पड़िये उस ब्लॉग पर या उस खबर पर… बखिये उधेड़ डालिये हिन्दुओं के, हिन्दुत्व के, संघ के, विहिप के… फ़िर देखियेगा आपके चिठ्ठे पर हिट्स की झड़ी लग जायेगी, जो धर्मनिरपेक्ष हैं (असली और नकली दोनों), जो वामपंथी हैं (असली और नकली दोनों) आपकी तारीफ़ों के पुल बाँधेंगे, और जो नहीं हैं वे आपके ब्लॉग पर आकर आपको गरियायेंगे, आपको नाकारा साबित करने की कोशिश करेंगे… घबराईये नहीं… आग में घी डालते जाईये, अपने ही ब्लॉग पर कोई ऐसी बेनामी टिप्पणी कर आईये जिससे विवाद और भड़के… फ़िर एकाध-दो टिप्पणियों को उन चिठ्ठाकारों को भेजिये जो आपके समर्थन में आये थे, फ़िर देखिये वे भी इस कीचड़ में कूद जायेंगे… दिल्ली विश्वविद्यालय के लगभग सभी ‘छँटे’ हुए बन्दे आपके पीछे खड़े मिलेंगे, और आपका चिठ्ठा रातोंरात हिट… यह सबसे लोकप्रिय और “आजमाया” हुआ फ़ॉर्मूला है इसीलिये इसे मैंने सबसे पहले क्रम पर रखा है।

यदि आप मुसलमानों के पक्ष में नहीं लिख पा रहे, कोई बात नहीं हिन्दुत्व के विरोध में ही लिख डालिये (दोनों को एक ही समझा जायेगा), वह भी नहीं कर पा रहे तो ब्राह्मणों और ब्राह्मणवाद के खिलाफ़ लिख डालिये, वह भी नहीं कर पा रहे हों तो “बिहार” और बिहारियों के खिलाफ़ कुछ लिख डालिये, (यह लेटेस्ट फ़ॉर्मूला तो नहीं लेकिन कईयों द्वारा आजमाया हुआ जरूर है) बस आपका काम हो गया… अब आप चैन से बैठिये और तमाशा देखिये, हिट्स देखिये और आपका समर्थन या विरोध (जो भी हो आपको क्या फ़र्क पड़ता है) हँसते-हँसते झेलिये…

(2) जम कर टिप्पणियाँ कीजिये –
एक सफ़ल ब्लॉगर होने के लिये आपका एक सफ़ल टिप्पणीकार होना जरूरी है। प्रतिज्ञा कर लीजिये कि कम से कम 40 टिप्पणियाँ रोज बिलानागा करेंगे। टिप्पणी करने के लिये उस ब्लॉग को पढ़ना कतई जरूरी नहीं है, बस एक के बाद एक एग्रीगेटर खोलिये, चिठ्ठा खोलिये, सीधे नीचे पहुँचिये और तारीफ़ की टिप्पणी कर डालिये, क्योंकि हरेक ब्लॉगर को यह मुगालता होता ही है कि वही दुनिया में सबसे बेहतरीन लेखक है, इसलिये यदि उसने कूड़ा भी लिखा हो तो भी एकाध लाईन की तारीफ़ जरूर करें, बल्कि एक-दो “टेम्पलेट” बनाकर रख लीजिये, जैसे – “आप बहुत अच्छा लिखते हैं”, “बेहतरीन प्रस्तुति”, “आप इसी तरह (कूड़ा) लिखते रहें”… आदि-आदि, बस कॉपी-पेस्ट कीजिये और विभिन्न ब्लॉगों पर टिप्पणी चेपते जाईये, लोगबाग आपसे बेहद खुश रहेंगे कि चलो बन्दा कम से कम अपना ब्लॉग तो नियमित रूप से पढ़ता ही है, फ़िर भले ही आप उनसे कई गुना गये-बीते होंगे तब भी बेचारा शर्मा-शर्मी में आपके ब्लॉग पर आयेगा और टिप्पणी जरूर करेगा, उसकी देखा-देखी कुछ और आ जायेंगे और आपकी “दुकान” चल निकलेगी।

(3) एक फ़र्जी चिठ्ठा महिला नाम से बनायें –
यदि आप पहले से नई महिला चिठ्ठाकार हैं तब तो कोई बात नहीं, वैसे ही आपके चिठ्ठे पर टिप्पणियों की बरसात होना तय है, लेकिन यदि आप पुरुष ब्लॉगर हैं तो एक नकली नाम से महिला चिठ्ठा बना लें, शुरुआत में वहाँ महिलाओं से सम्बन्धित समस्याओं पर चर्चा करें, फ़िर धीरे से एकाध पुरुष चिठ्ठाकार से झगड़ा मोल ले लें, मुद्दे से आपको कोई मतलब नहीं होना चाहिये, महज अपनी बात ठेलना है इसलिये भैंसों पर हो रहे अत्याचार के लिये, टूटे फ़ुटपाथ के लिये, गाड़ी खराब होने के लिये… गरज कि हरेक मुद्दे पर पुरुषों को जिम्मेदार ठहराईये… फ़िर अपने असली पुरुष नाम वाले ब्लॉग से उस ब्लॉग पर एक कड़क सी महिला विरोधी टिप्पणी कर डालिये, फ़िर देखिये क्या शानदार माहौल बनता है आपके चिठ्ठे पर…

सो खास-खास फ़ॉर्मूले आपको बता दिये,, बस आपको कुछ चुनिंदा शब्द याद रखना है, जैसे हिन्दू-मुसलमान, ब्राह्मणवाद, महिला-विरोध, पुरुष मानसिकता, नरेन्द्र मोदी… जहाँ कहीं यह शब्द दिखाई दें, उठाईये अपना मुगदर (कीबोर्ड) और पिल पड़िये सामने वाले की धुलाई में… कैसे टिप्पणियाँ नहीं मिलेंगी आपको…फ़िर ब्लॉग हिट करने के और भी तरीके हैं, जैसे कोई ब्लॉगर पुरस्कार शुरू कर दीजिये, न कर सकते हों तो जो पुरस्कार बाँट रहा हो, या जो उसमें जज की भूमिका निभा रहा हो, या जिसे पुरस्कार मिले उसी के बखिये उधेड़ने लगिये, जम कर बहस कीजिये, विरोध कीजिये, समर्थक-विरोधी दोनों आपके ब्लॉग पर आयेंगे, कुछ भला-भला, कुछ बुरा-बुरा सुनायेंगे, और आपको क्या चाहिये? यदि आप एक स्थापित पत्रकार हैं और दिल्ली, मुम्बई में रहते हैं तो वैसे ही तमाम एग्रीगेटर मीडिया में “फ़ुटेज” खाने के लिये आपके आगे-पीछे घूमते नजर आयेंगे। पैसा खर्च करने की ताकत रखते हों तो खुद ही एक एग्रीगेटर बन जाईये… मतलब कि तमाम रास्ते हैं हिट होने के…

नये ब्लॉगर बन्धुओं, अपना चिठ्ठा हिट करने के लिये इनमें से कोई भी एक-दो फ़ॉर्मूले चुन लीजिये, वरना मेरे जैसे फ़्लॉप ब्लॉगर बनकर रह जायेंगे… तो 130 करोड़ की आबादी में 1500 हिन्दी ब्लॉगरों (जिनकी कोई भी नहीं सुनता) और उनके गिने-चुने दो-चार हजार पाठकों के “सूत न कपास वाले लठ्ठम-लठ्ठे” मे आपका स्वागत है…


, , , , , ,

20 comments:

Raviratlami said...

एकदम काम की सूची है. कुछ तो आजमाने ही होंगे... :)

Dr. Ajit Kumar said...

मुझ जैसे कचरा उगलने वालों के लिए तो आपकी यह सलाह राम-बाण साबित होगी.वैसे मैं सोचता हूँ की अगर टिप्पणी के साथ अपने पोस्ट का लिंक भी चेप दिया जाए तो कैसा रहे.
महत्वपूर्ण विचारोत्तेजक विचारों के लिए धन्यवाद.

सिरिल said...

मेरे नज़रों में आप फ्लाप नहीं, सुपरहिट ब्लागर हैं.

Shastri JC Philip said...

वाह वाह !!

(आपके लेख का एक शब्द भी नहीं पढा है. अब देखिये न आपके सुझाव कितने कामयाब है. ऊपरे के दो शब्दों से मेरा काम हो गया. अब जवाब में सारथी पर पधारने एवं -- पढेबिनापढे -- टिपियाना न भूलें)

सागर नाहर said...

वरना मेरे जैसे फ़्लॉप ब्लॉगर बनकर रह जायेंगे…सबसे पहली बात कि आफ फ्लॉप ब्लॉगर नहीं है, यह आपके साईडबा्र में फीड बर्नर में आपके ग्राहक संख्या बता रही है।
दूसरी बात आपने हमारे फार्मूले चुरा कर अपने नाम से चेंप दिये उसके लिये आप पर कॉपीराईट का केस बनता है, बचना चाहो तो गिन कर पचास टिप्पणियाँ मेरे चिट्ठों पर करनी होगी। :)
चिट्ठाकारी में एक साल पूरा करने पर हार्दिक बधाई

अविनाश वाचस्पति said...

ओ ह हो तो महाजाल
आपसे तो ऐसी कतई
उम्मीद न थी
यहां पर तो
उम्मीद से
ज़्यादा ही मिला

कीर्तिश भट्ट said...

बहुत बढ़िया. (यह टिपण्णी ईमानदारी से आपकी उपयोगी पोस्ट के लिए)

कीर्तिश भट्ट said...

वाह जी...... क्या लिखा है आज तो और क्या लिखते हैं आप तो. भाई मजा आ गया. (यह टिपण्णी आपके सुझावों का अनुसरण करते हुए अपनी हिट्स बढ़ाने के लिए :)

mehek said...

he he he very nice views for new blogger,great blog.

अनूप शुक्ल said...

अच्छे उपाय हैं। अमल शुरू किया जाये।

Sanjeet Tripathi said...

वाह वाह वाह!!
ये आज की टिप्प्णी का कोटा पूरा हुआ ;)

vijayshankar said...

आपका पहला फार्मूला पढ़कर लगा कि आप उन लोगों को नहीं पसंद करते जो सताए हुए लोगों की बात करते हैं. और हाँ, मैं जानता हूँ कि यह लिखकर आपको अपना आलोचक बना लूंगा, आपका यह लिखना कि आप फ्लॉप ब्लोगर हैं; एक किस्म की आत्मश्लाघा की दबी हुए इच्छापूर्ति का साधन है. अब अपने फार्मूले के ही मुताबिक मेरी इस टिप्पणी पर आपको टिप्पणी करनी होगी, वरना आपका ही फार्मूला विफल समझा जायेगा.

एक नीतिश्लोक है- 'शुद्धिः बुद्धिः किल कामधेनु.' किल यहाँ अव्यय शब्द है अन्यथा न ले लीजिएगा

राजीव जैन Rajeev Jain said...

अरे बॉस सालभर से पता थे तो आपको ये सुझाव पहले ही बताने थे न। अपन तो बेवजह ही मोदी के समर्थन में ही लिखकर कलम घसीटते रहे।
पता नहीं मोदी ने भी पढा या नहीं :)
http://shuruwat.blogspot.com/search/label/%E0%A4%97%E0%A5%81%E0%A4%9C%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%A4

Dr.Parveen Chopra said...

सुरेश जी, वाह भई वाह....बस इतना जरूर कहना चाहूंगा कि ऐसे ही सुबह सुबह हंसने के बहाने मिलते रहें तो मज़ा ही आ जाए। बिलकुल सुऱेश भाई, कुछ बंदों को टिप्पणीयों से तो यही लगाता है कि वे खाना-पूरी ही कर रहे है...केवल दो शब्द धकेल देते हैं...बढ़िया है, अच्छा है, खूबसूरत है, ठीक कह रहे हैं....खुल कर दिल से टिप्पणी करनी हो तो करो, वरना यह रस्म-अदायिगी से हम वैसे ही सारे बहुत चिढ़े से हो कर इस ब्लागिरी के मैदान में उतरे हैं। खुश रहो, सुरेश भाई।

Tarun said...

क्या ऊपाय दिये हैं अभी अभी महिला चिट्ठेकार के नाम से ब्लोग बना डाला है, अब सब से पहले आप का ही तिया पांच करते हैं ;)। मजाक कर रिया हूँ, एक साल की बधाई।

वैसे ये तीनों ऊपाय कारगार सिद्ध हो रहे हैं ये जानने का तरीका ये है कि जैसे ही आपकी पोस्ट चोरी होने लगे समझलें आप सफल होने लगे हैं।

anitakumar said...

महिला ब्लोगर हैं तो टिप्पणीयों की बरसात होने लगेगी। भई, किधर है वो बरसात, अब क्या मै महिला ब्लोगर नही लगती। और उपाय सु्झाए जाएं

Suresh Chiplunkar said...

इतनी सारी टिप्पणियों के लिये धन्यवाद, पहली बार मुझे इतनी टिप्पणियाँ मिली हैं, इससे यह साबित होता है कि लोग-बाग कितने उतावले हैं हिट होने को, जहाँ कोई फ़ार्मूला बताता हुआ मिला कि लाइन लगाकर खड़े हो गये…(इसे मजाक के तौर पर लिया जाये)
@ विजयशंकर जी- मैंने कभी आलोचनाओं का बुरा नहीं माना आपका सदैव स्वागत रहेगा… रही बात "सताये हुए लोगों" की तो वह बहस का एक अलग विषय है…
@ अनिता जी- बरसात होकर रहेगी, बस फ़ोटो बदल दीजिये… (मजाक के तौर पर लें)
@ सागर जी- मैंने पहले ही अर्ज किया कि कॉपीराईट केवल और केवल दुर्योधन का है… फ़्लॉप और हिट की परिभाषा "सापेक्ष" है… :)

mahashakti said...

जुगाड़ तो अच्‍छा है, बधाई

Anonymous said...

i have seen your blog its interesting and informative.
I really like the content you provide in the blog.
But you can do more with your blog spice up your blog, don't stop providing the simple blog you can provide more features like forums, polls, CMS,contact forms and many more features.
Convert your blog "yourname.blogspot.com" to www.yourname.com completely free.
free Blog services provide only simple blogs but we can provide free website for you where you can provide multiple services or features rather than only simple blog.
Become proud owner of the own site and have your presence in the cyber space.
we provide you free website+ free web hosting + list of your choice of scripts like(blog scripts,CMS scripts, forums scripts and may scripts) all the above services are absolutely free.
The list of services we provide are

1. Complete free services no hidden cost
2. Free websites like www.YourName.com
3. Multiple free websites also provided
4. Free webspace of1000 Mb / 1 Gb
5. Unlimited email ids for your website like (info@yoursite.com, contact@yoursite.com)
6. PHP 4.x
7. MYSQL (Unlimited databases)
8. Unlimited Bandwidth
9. Hundreds of Free scripts to install in your website (like Blog scripts, Forum scripts and many CMS scripts)
10. We install extra scripts on request
11. Hundreds of free templates to select
12. Technical support by email

Please visit our website for more details www.HyperWebEnable.com and www.HyperWebEnable.com/freewebsite.php

Please contact us for more information.


Sincerely,

HyperWebEnable team
info@HyperWebEnable.com

हिन्दु चेतना said...

सही कहा हिन्दु होने के वाबजुद मुस्लमान का तलबा चाटना आदत हो गई है
1 बाला मैं भी ब्लागर हू